जम्मू-कश्मीर: पूर्व मंत्रियों की सुरक्षा और गाड़ियां ली जाएगी वापस, राज्यपाल ने दी मंजूरी

जम्मू-कश्मीर: पूर्व मंत्रियों की सुरक्षा और गाड़ियां ली जाएगी वापस, राज्यपाल ने दी मंजूरी

Anil Kumar | Publish: Jul, 13 2018 07:58:33 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

जम्मू-कश्मीर के सभी पूर्व मंत्रियों की सुरक्षा और गाड़ियों को वापस लिया जाएगा। राज्यपाल एनएन वोहरा ने इसकी मंजूरी भी दे दी है।

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में लगातार सियासत गरमाता जा रहा है। लेकिन इन सबके बीच पूर्व मंत्रियों के लिए एक बुरी खबर आई है। अब सभी पूर्व मंत्रियों की सुरक्षा और गाड़ियों को वापस लिया जाएगा। राज्यपाल एनएन वोहरा ने इसकी मंजूरी भी दे दी है। राज्य पुलिस ने इस संबंध में राज्यपाल से बात की जिसके बाद राज्यपाल ने यह आदेश जारी कर दिया। बता दें कि राज्य में फिलहाल राज्यपाल शासन लागू है।

इससे पहले राज्यपाल ने प्रशासनिक फेरबदल किए थे

आपको बता दें कि बीते महीने भाजपा ने पीडीपी सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था जिसके बाद से जम्मू-कश्मीर में भाजपा-पीडीपी गठबंधन की सरकार गिर गई। सरकार गिरने के बाद राज्य में राज्यपाल शासन लागू है। इससे पहले बीते दिनों सरकार गिरने के बाद पहली बार प्रशासनिक अधिकारियों में फेरबदल किया गया गया था। राज्यपाल ने 13 आईएएस और आईपीएस अधिकारियों का तबादला किया था।

महबूबा के बयान पर भाजपा का बड़ा हमला, मोदी सरकार का साथ न होता तो कब्रिस्तान बन जाता घाटी

महबूबा का बयान पर भाजपा का पलटवार

आपको बता दें कि घाटी में बढ़ते सियासी घटनाक्रम के बीच पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि यदि पीडीपी विधायकों को तोड़ने का प्रयास दिल्ली की सरकार करेगी तो फिर घाटी में कई सल्लाउद्दीन पैदा हो जाएंगे। इस पर भाजपा ने पलटवार करते हुए कहा कि यदि केंद्र सरकार साथ नहीं देती तो आतंकी कब का घाटी को कब्रिस्तान बना चुके होते।

अब जम्मू-कश्मीर के आईएएस शाह फैजल के बचाव में उतरे हरियाणा के यह वरिष्ठ आईएएस अफसर

आतंकियों ने सुजात बुखारी और सेना के जवान औरंगजेब की हत्या की थी

आपको बता दें कि घाटी में लगातार सीमा पार से सीजफाइर का उल्लंघन किया जा रहा है और अशांति फैलाने का प्रयास किया जा रहा है। इससे पहले घाटी में आतंकियों ने राइजिंग कश्मीर के संपादक सुजात बुखारी की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके अलावे ईद के मौके पर अपने घर जा रहे भारतीय सेना का जवान औरंगजेब को अगवा कर आतंकियों ने हत्या कर दिया था। इसके बाद से जम्मू-कश्मीर में भाजपा-पीडीपी के बीच रिश्तों में दरार बढ़ गया और भाजपा ने पीडीपी के साथ रिश्ता तोड़ लिया।

 

Ad Block is Banned