लंदन: मैडम तुसाद संग्रहालय में लगेगी बाबा रामदेव की मोम की प्रतिमा

लंदन: मैडम तुसाद संग्रहालय में लगेगी बाबा रामदेव की मोम की प्रतिमा

Anil Kumar | Publish: Jun, 24 2018 03:02:12 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

योग गुरु बाबा रामदेव की मोम की प्रतिमा मैडम तुसाद के विश्व-प्रसिद्ध संग्रहालय में लगने जा रही है।

नई दिल्ली। प्राचीन भारतीय कला 'योग' को पूरी दुनिया में स्थापित करने वाले योग गुरु बाबा रामदेव अब लंदन के मैडम तुसाद संग्रहालय में नजर आएंगे। दरअसल योग गुरु बाबा रामदेव की मोम की प्रतिमा मैडम तुसाद के विश्व-प्रसिद्ध संग्रहालय में लगने जा रही है। बता दें कि मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बाबा रामदेव ने कहा है यह भारत के लिए गर्व की बात है। यह भारतीय ऋशि परंपरा संस्कृति के लिए गौरवशाली पल है और इससे भारत का मान बढ़ेगा।

योग गुरु रामदेव ने अंग्रेजों को सिखाया योग, कहा- भारत ने की शुरुआत

सोमवार को प्रतिमा के लिए लिया जाएगा बाबा के शरीर का माप

आपको बता दें कि योग गुरु बाबा रामदेव के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने इस बात कि पुष्टि करते हुए कहा कि लंदन के मैडम तुसाद संग्रहालय में जल्द ही बाबा रामदेव की प्रतिमा नजर आएगी। बता दें कि इन दिनों बाबा रामदेव लंदन के दौरे पर हैं और बकिंघम स्टेडियम में योग शिविर चला रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक योग गुरु बाबा रामदेव मोम की इस प्रतिमा के लिए सोमवार को लंदन में मैडम तुसाद संग्रहालय में तीन घंटे के लिए मौजूद रहेंगे जिससे कि उनके शरीर के अंगों का माप लिया जा सके, जिसमें बाबा के हाथ, पैर और चेहरे के हाव-भाव के माप को लिया जाएगा। इसके बाद से जब यह मोम का प्रतिमा तैयार हो जाएगा तब एक बार फिर से प्रतिमा को फाइन टच देने के लिए संग्रहालय के विशेषज्ञों की टीम योग गुरु बाबा रामदेव के साथ मिलकर बैठेगी। जब प्रतिमा बनकर तैयार हो जाएगा तब इसे संग्रहालय में स्थापित करने के लिए तैयार कर दिया जाएगा। आपको बता दें कि वैसे तो कई महान भारतीयों की प्रतिमा को मैडम तुसाद संग्रहालय में स्थापित किया गया है लेकिन स्वामी विवेकानंद के बाद यह पहला अवसर है जब किसी भारतीय संत या योग गुरु की प्रतिमा को स्थापित किया जाएगा। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस पूरे कार्य को पूर्ण होने में करीब 6 महीने का समय लगने की संभावना है। आपको बता दें कि इंग्लैंड के लंदन में स्थापित मैडम तुसाद मोम की मूर्तियों का संग्रहालय हैं। दुनिया भर के कई देशों में इसकी अन्य शाखाएँ हैं। इसकी स्थापना 1835 में मोम शिल्पकार मेरी तुसाद ने की थी।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned