इस शहर में किसी को भी नहीं रहना चाहिए-दिल्ली डॉक्टर्स

डॉक्टरों ने कहा कि इस प्रदूषित हवा में अगर कोई भी सांस लेता है तो वह बीमार पड़ सकता है।

नई दिल्ली : दिल्ली में एक दिन की राहत के बाद फिर से पॉल्यूशन स्तर बढ़ गया है। एक दिन पहले मौसम खुलने के बाद दिल्ली-एनसीआर में फिर से जहरीली हवा चलने लगी है। दिल्ली के कुछ मशहूर डॉक्टरों ने कहा है कि इस शहर में किसी को भी नहीं रहना चाहिए। दिल्ली के बड़े बड़े डॉक्टरों का मानना है कि दिल्ली की पॉल्यूशन अखबार का हेडलाइन्स होना चाहिए साथ ही इसपर तुरंत एक्शन लेना चाहिए।

शनिवार को राष्ट्रपति भवन के सामने सुबह 6.30 बजे दिल्ली के कुछ नामचीन डॉक्टर जुटे और पॉल्यूशन की जांच। जिसमें 815 एयर क्वालिटी इंडेक्स रहा। डॉक्टरों ने कहा कि इस प्रदूषित हवा में अगर कोई भी सांस लेता है तो वह बीमार पड़ सकता है। लोगों को इस हवा में सांस नहीं लेनी चाहिए।

IMA ने मैराथन नहीं कराने को कहा

इंडियन मेडिकल एसोसोशिन के अध्यक्ष डॉ के के अग्रवाल ने दिल्ली में मैराथन नहीं कराने को कहा है। उन्होंने कि मैराथन कराना अभी खतरे से खाली नहीं है। आईएमए ने दिल्ली के स्कूलों से कहा है कि वह कुछ दिनों तक बच्चों को आउटडोर ऐक्टिविटी न कराएं। इसके बाद सीएम अरविंद केजरीवाल ने शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया से दिल्ली के स्कूल बंद करने पर विचार करने को कहा है।

6 गुना बढ़ जाएगा ब्रेस्ट कैंसर

अपोलो अस्पताल के सीनियर डॉक्टर और ब्रेस्ट सर्जन डॉ सिदार्थ सहनी ने कहा कि 20साल की एक लड़की इस वातावरण में है तो तो 40 साल में उसमें स्तन कैंसर होने की आशंका छह गुना अधिक हो जाएगा।

लोगों को इसके लिए आगे आना चाहिए
वहीं मेदांता हॉस्पिटल के चेयरमैन डॉ नरेश त्रेहान ने कहा कि लोगों को आंदोलन की तरह इस मुद्दे को उठाना चाहिए। डॉ त्रेहान ने कहा कि लोग इस मुद्दे को लेकर चिंतित हैं। लेकिन उन्हें नहीं पता कि क्या करना है। लोग सरकार से समाधान की उम्मीद लगाए हुए हैं। लेकिन मेरा मानना है कि लोगों के प्रयास से इसे दूर किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य केंद्र और राज्य दोनों के लिए चिंता का विषय है। इसे गंभीरता से लेना होगा, अन्यथा बहुत बुरे परिणाम होंगे। डॉ त्रेहान ने कहा कि 60-70% प्रदूषण फसल जलने से हो रहा है। उन्होंने कहा कि बच्चों और बीमार लोगों के लिए आवाज उठाना ही चाहिए।

दिल्ली रहने योग्य नहीं

सर गंगा राम हॉस्पिटल के डॉक्टर अरविंद कुमार ने कहा कि दिल्ली रहने योग्य नहीं। उन्होंने कहा स्वस्थ्य जागरूक व्यक्ति इस शहर में रहना नहीं चाहेगा।

 

IMA, delhi pollution, delhi pollution,delhi pollution news,Delhi pollution danger level

पीएम मोदी से अपील

गौरतलब है कि दिल्ली में डॉक्टर और माताओं ने सोशल मीडिया पर # माईराइट टू ब्रीथ करके अभियान चलाया है। यह अभियान बड़े पैमाने पर जागरूकता बढ़ाने की कोशिश कर रहा है। साथ ही समस्या दूर करने के लिए सामूहिक तौर पर समाधान खोजने की कोशिश कर रहा है। देश के मशहूर रिसचरों और विशेषज्ञों ने पीएम मोदी से इस मुद्दे को उठाने की अपील की है। साथ ही इसे नेशनल हेल्थ इमरजेंसी घोषित करने की मांग की है।

दिल्ली में फिर बढ़ा प्रदूषण

गौरतलब है कि दिल्ली और एनसीआर में मंगलवार से ही सुबह भी स्मॉग की चादर छाई है। हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने के बाद दिल्ली की हवा प्रदूषित हुई है। इसे देखते हुए दिल्ली सरकार ने दिल्ली में कई नए नियम भी लागू किए हैं। दिल्ली में पीएम का स्तर 10 तक गिर गया है। साथ ही शनिवार को गाजियाबाद में 65 फैक्ट्रियों को बंद कर दी गई है।

Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned