पीएम नरेंद्र मोदी ने तिरुपति बालाजी मंदिर में की पूजा, सीएम जगन मोहन रेड्डी भी रहे मौजूद

पीएम नरेंद्र मोदी ने तिरुपति बालाजी मंदिर में की पूजा, सीएम जगन मोहन रेड्डी भी रहे मौजूद

Shiwani Singh | Publish: Jun, 09 2019 07:51:02 PM (IST) | Updated: Jun, 10 2019 09:48:23 AM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

  • श्रीलंका दौरे के बाद आंध्र प्रदेश पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी
  • मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने किया पीएम मोदी का स्वागत
  • पीएम ने रेड्डी को दी सीएम बनने पर बधाई

नई दिल्ली। श्रीलंका दौरे के बाद रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आंध्र प्रदेश पहुंचे। हवाई अड्डे से उतरते ही राज्य के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने फूल भेंट कर उनका स्वागत किया। बता दें कि रेड्डी ने इस दौरान पीएम मोदी के पैर छूकर आशीर्वाद लिया।

 

मोदी ने की तिरुपति मंदिर में पूजा

पीएम मोदी तिरुपति बालाजी मंदिर पहुंचे। यहां मौजूद पूजारियों ने प्रधानमंत्री का स्वागत किया। मोदी ने मंदिर में पूजा-अर्चना की। इस दौरान उनके साथ सीएम जगन मोहन रेड्डी भी मौजूद थे।

जनसभा को संबोधित

मंदिर पें पूजा से पहले पीएम नरेंद्र मोदी तिरुपति पहुंचे। यहां पीएम मोदी ने एक जनसभा को संबोधित किया। अपने संबोधन में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि जनता के हितों को ध्यान में रख कर हम हमेशा काम करते रहेंगे। वहीं, इससे पहले पीएम मोदी ने जगनमोहन रेड्डी को मुख्यमंत्री बनने पर शुभकामनाएं दीं । पीएम ने कहा, 'रेड्डी आंध्र प्रदेश को आगे लेकर जाएंगे। मैं आप लोगों को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि भारत सरकार हमेशा आंध्र प्रदेश के लोगों के साथ रहेगी।

जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद् मोदी ने कहा, 'जनसंपर्क, जनसेवा, जन समर्थन और जनहित हमारे सिद्धांत हैं।प्रधानमंत्री ने कहा, चुनाव जीतना, ये चुनाव के समय चुनावी मैदान में करना होता है। लेकिन देश की जनता का दिल जीतना, ये काम हमें 365 दिन करते रहना है।

पीएम ने कहा, ' हमें सरकारें भी बनानी हैं और देश भी बनाना है।सरकार का इस्तेमाल भी देश बनने के लिए ही होना चाहिए, दल को बढ़ाने के लिए काम करना न तो हमारी प्रकृति है और ना ही हमारी संस्कृति।'

पार्टी के कार्यकर्ता कर्म में विश्वास करने वाले

पीएम मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि पार्टी के कार्यकर्ता कर्म में विश्वास करने वाले लोग हैं। जब हम नगरपालिका के चुनाव भी नहीं जीत पाते थे तब भी भारत माता की जय के नारे को बुलंद करते थें। देश की सेवा में हमने चार-चार पीढ़ियां खपा दी हैं और तब जाकर आज देश की सेवा करने के लिए हमें एक और अवसर मिला है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned