Rafale के पहले कमांडिंग ऑफिसर होंगे Group Captain Harkirat Singh , इसलिए शौर्य चक्र से किए गए थे सम्मानित

  • Indian Air Force Chief Marshal RKS Bhadoria बुधवार को Ambala Airport पर बुधवार को फ्रांस से आ रहे 5 Rafale fighters) को ग्रहण करेंगे
  • इन रफाल जेट विमानों ( Rafale fighters jets ) ने सोमवार को फ्रांस ( France ) के शहर बोडरे में मेरिनैक एयर बेस से भारत के लिए उड़ान भरी थी

नई दिल्‍ली। इंडियन एयरफोर्स चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ( Indian Air Force Chief Marshal RKS Bhadoria ) बुधवार को अंबाला एयरपोर्ट ( Ambala Airport ) पर बुधवार को फ्रांस से आ रहे पांच राफेल लड़ाकू विमानों ( Rafale fighters ) को ग्रहण करेंगे। इन रफाल जेट विमानों ( Rafale fighters jets ) ने सोमवार को फ्रांस ( France ) के शहर बोडरे में मेरिनैक एयर बेस से भारत के लिए उड़ान भरी थी। इंडियन एयरफोर्स ( Indian Air Force ) के बेड़े में शामिल होने वाले इन तीन सिंगल सीटर और दो जुड़वा सीट वाले विमान शामिल हैं। इन्हें इंडियन एयरफोर्स में इसके 17वें स्क्वाड्रन के भाग के तौर में शामिल किया जाएगा। इसको अंबाला एयर बेस ( Ambala Air Base ) पर 'गोल्डन एरो' के रूप में भी जाना जाता है।

पहले कमांडिंग ऑफिसर ग्रुप कैप्‍टन हरकीरत सिंह होंगे

वहीं, फ्रांस (France) से भारत आने वाले इन रफाल लड़ाकू विमानों (Rafale Fighter Jet) को औपचारिक रूप से एयर फोर्स के बेड़े में 15 अगस्‍त के बाद शामिल किया जाएगा। सूत्रों के अनुसार रफाल स्क्वाड्रन के पहले कमांडिंग ऑफिसर ग्रुप कैप्‍टन हरकीरत सिंह ( Commanding Officer Group Captain Harkirat Singh ) होंगे। ग्रुप कैप्‍टन हरकीरत सिंह ही फ्रांस से रफाल विमानों को भारत ला रहे हैं। आपको बता दें कि हरकीरत सिंह मिग और सुखोई भी उड़ा चुके हैं। ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह ( Group Captain Harkirat Singh ) को साल 2009 में बहादुरी के लिए शौर्य चक्र ( Shaurya Chakra ) से सम्मानित किया गया था। दरअसल, हरकीरत सिंह भारत के वो जांबाज सिपाही हैं, जिन्होंने मिग 21 ( Mig 21 ) का इंजन खराब हो जाने के बाद बावजूद भी अपने को बचाया और मिग-21 को भी ज्यादा क्षतिग्रस्त होने से बचाया।

रफाल लड़ाकू विमानों से इंडियन एयरफोर्स को एक नई ताकत मिलेगी

आपको बता दें कि रफाल के लिए कुल 15 से 17 पायलटों को ट्रेंड किया गया है। जानकारी के अनुसार अंबाला एयरबेस में उतरने के हफ्ते भर बाद रफाल विमानों को ऑपरेशन के लिए तैनात किया जा सकता है। रक्षा जानकारों के अनुसार रफाल लड़ाकू विमानों से इंडियन एयरफोर्स को एक नई ताकत मिलेगी। अत्याधुनिक तकनीकी से युक्त इन विमानों जैसे फाइटर जेट चीन और पाकिस्तान के पास भी नहीं हैं।

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned