सिर्फ इन तीन लोगों के फिंगर प्रिंट से खुलता था राम रहीम की गुफा का दरवाजा

सिर्फ इन तीन लोगों के फिंगर प्रिंट से खुलता था राम रहीम की गुफा का दरवाजा

राम रहीम की गुफा का दरवाजा सिर्फ तीन लोग खोल सकते थे।

नई दिल्ली। हरियाणा पुलिस की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ती जा रही है वैसे-वैसे राम रहीम की गुफा के नए राज खुलते जा रहे हैं। अब जांच दल को पता चला है कि राम रहीम की गुफा का दरवाज सिर्फ तीन लोगों के फिंगर प्रिंट्स से खुलता है। इसमें एक तो राम रहीम था, दूसरा हनीप्रीत और तीसरा उसका करीबी धर्म सिंह। इन तीनों के अलावा गुफा के अंदर कोई भी बिना इजाजत के नहीं जा सकता था। सूत्रों के मुताबिक इन्हीं दरवाजों को इस्तेमाल कर हनीप्रीत 28 अगस्त को फरार हुई थी।

2 सूटकेस के साथ फरार हुई थी हनीप्रीत
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सीआईडी को जांच में पता चला है कि हनीप्रीत 28 अगस्त की रात 2 सूटकेस लेकर निकली थी। इन दोनों सूटकेसों में काला धन था। जिसका इस्तेमाल हिंसा फैलाने में किया गया। सूत्रों के मुताबिक डेरे को छोड़ने से पहले हनीप्रीत ने दरवाजों पर लगे सभी सेंसरों को निष्क्रिय कर दिए थे। इसी वजह से कोर्ट के आदेश पर जब टीम वहां पहुंची तो उसे सभी दरवाजे खुले मिले थे।

पंचकूला हिंसा में हनीप्रीत ने की थी फंडिंग
एसआईटी के सामने हनीप्रीत ने कबूल किया है कि राम रहीम के जेल जाने के बाद हरियाणा और पंजाब में हुई हिंसा के पीछे उसका हाथ था। इसके साथ ही हिंसा के लिए सवा करोड़ रुपये की फंडिंग भी की गई थी। वहीं मंगलवार को हनीप्रीत की कोर्ट में पेशी के दौरान एसआईटी ने बताया कि उसी ने देश विरोधी वीडियो वायरल किया था। ये वीडियो हनीप्रीत के मोबाइल में है। इसके साथ ही हिंसा के लिए हनीप्रीत ने मैप में कई इलाकों की चिह्नित किया था जोकि उसके लैपटॉप में थे।

कहां है हनीप्रीत को मोबाइल?
वहीं पुलिस को अभी हनीप्रीत को लैपटॉप और मोबाइल बरामद करना है। हनीप्रीत ने पुलिस को बताया था कि उसका मोबाइल पंजाब के तरनतारन में कहीं खो गया था। जबकि अब उसकी साथी सुखदीप कौर ने पुलिस को बताया है कि उसका फोन यूपी के बिजनौर में उसके रिश्तेदार के पास था। ऐसे में पुलिस अब हनीप्रीत का मोबाइल बरामद करने पर पूरा फोकस कर रही है। मोबाइल की बरामदगी के बाद कई और अहम राज खुल सकते हैं।

Ad Block is Banned