अमरीकी रिपोर्ट का दावा, भारत में 34 से 47 लाख लोगों की मृत्यु कोरोना से हुई

सेंटर फॉर ग्लोबल डवलपमेंट स्टडी की ओर से जारी की गई इस रिपोर्ट में सरकार द्वारा जारी किए गए आधिकारिक आंकड़ों, अंतरराष्ट्रीय अनुमानों तथा घरों में किए गए सर्वे को आधार मानते हुए डेटा का विश्लेषण किया गया है।

नई दिल्ली। एक अमरीकी रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में कोरोना के चलते लगभग 34 से 47 लाख मौतें हुई हैं। यह आंकड़ा केन्द्र सरकार द्वारा बताए गए करीब 4 लाख के आंकड़े से 10 गुना ज्यादा है। रिपोर्ट जारी करने वाले शोधकर्ताओं के अनुसार कोरोना की दूसरी लहर ब्रिटिशकालीन भारत की आजादी और बंटवारे के बाद से सबसे बड़ी त्रासदी है। सेंटर ने कोरोना संक्रमण के दौरान हुई मौतों तथा उससे पूर्व के वर्षों में हुई मृत्यु के डेटा का विश्लेषण कर यह रिपोर्ट तैयार की है। शोधकर्ताओं ने वर्ष 2020 तथा 2021 में होने वाले सभी मृत्यु को कोविड 19 महामारी से जोड़ते हुए सरकार के आंकड़ों को गलत बताया है।

यह भी पढ़ें : कोरोना संक्रमण कम होने पर सबसे पहले प्राइमरी स्कूल्स खुलने चाहिए: ICMR महानिदेशक
https://www.patrika.com/miscellenous-india/icmr-chief-balram-bhargava-says-primary-school-open-if-corona-decrease-6963128/

सेंटर फॉर ग्लोबल डवलपमेंट स्टडी की ओर से जारी की गई इस रिपोर्ट में सरकार द्वारा जारी किए गए आधिकारिक आंकड़ों, अंतरराष्ट्रीय अनुमानों तथा घरों में किए गए सर्वे को आधार मानते हुए डेटा का विश्लेषण किया गया है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कोरोना बीमारी से मरने वालों की संख्या कुछ हजार या लाख के बजाय मिलियन्स में हैं। रिपोर्ट पेश करने वालों में अरविंद सुब्रमण्यन भी शामिल हैं, वह मोदी सरकार में आर्थिक सलाहकार भी रह चुके हैं।

यह भी पढ़ें : दिल्ली, यूपी-बिहार सहित कई राज्यों में रेड अलर्ट, मूसलाधार बारिश की चेतावनी
https://www.patrika.com/miscellenous-india/live-weather-update-report-today-21-july-2021-6963133/

उल्लेखनीय है कि भारत सरकार द्वारा अब तक देश में 4,14,482 लोगों की मृत्यु कोरोना से होने की बात कही गई थी। जबकि अमरीका में कुल 6,09,000 तथा ब्राजील में 5,42,000 मृत्यु हुई हैं, इस तरह कोरोना से होने वाली मौतों के मामले में भारत पूरे विश्व में तीसरे स्थान पर है।

मेडिकल एक्सपर्ट्स जल्दी ही देश में कोरोना की तीसरी लहर आने की भविष्यवाणी कर रहे हैं। ऐसे में इस अमरीकी रिपोर्ट का महत्व और भी अधिक बढ़ जाता है। देश की केन्द्र सरकार तथा राज्य सरकारें संभावित तीसरी लहर को रोकने के लिए अभी से प्रयासों में जुटी हुई हैं।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned