पश्चिम बंगाल: पूर्व सीबीआई निदेशक नागेश्वर राव के दो ठिकानों पर कोलकाता पुलिस की छापेमारी, सियासत तेज

पश्चिम बंगाल: पूर्व सीबीआई निदेशक नागेश्वर राव के दो ठिकानों पर कोलकाता पुलिस की छापेमारी, सियासत तेज

Anil Kumar | Publish: Feb, 08 2019 08:17:23 PM (IST) | Updated: Feb, 09 2019 07:51:03 AM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

सीबीआई को लेकर छिड़े विवाद के बीच शुक्रवार को सीबीआई के अंतरिम निदेशक रह चुके एम नागेश्वर राव और उनकी पत्नी के दो ठिकानों पर बंगाल पुलिस ने छापेमारी की।

कोलकाता। आम चुनाव का समय करीब है और इससे पहले मोदी सरकार और ममता सरकार के बीच सियासी जंग तेज हो गया है। दरअसल सीबीआई को लेकर छिड़े विवाद के बीच शुक्रवार को सीबीआई के अंतरिम निदेशक रह चुके एम नागेश्वर राव और उनकी पत्नी के दो ठिकानों पर बंगाल पुलिस ने छापेमारी की। बता दें कि पुलिस ने पहला छापेमारी कोलकाता ताथा दूसरी सॉल्ट लेक स्थित नागेश्वर राव की पत्नी की कंपनी एंजेलिना मर्केंटाइल प्राइवेट लिमिटेड पर हुई है। इस छापेमारी को लेकर सियासी गलियारों में हलचल तेज हो गई है। माना जा रहा है कि सीबीआई पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से पूछताछ करने वाली है। इसी को लेकर ममता की पुलिस ने ये कार्रवाई की है। हालांकि अब एम नागेश्वर राव ने एक ज्ञापन जारी किया है और अपनी सफाई दी है। बता दें कि एंजेला मर्केंटाइल्स प्राइवेट लिमिटेड एक गैर-बैंकिंग वित्त कंपनी है जिसे फरवरी 1994 में शुरू की गई थी। शशि अग्रवाल, प्रतीक अग्रवाल, प्रवीण अग्रवाल और सुनील कुमार अग्रवाल एएमपीएल कंपनी के निदेशक हैं।

मोदी सरकार अधिकारियों का मेडल वापस ले लेगी तो हम उन्हें 'बंग विभूषण' से करेंगे सम्मानित: ममता बनर्जी

ममता और मोदी सरकार के बीच सीबीआई जांच पर विवाद

आपको बता दें कि बीते रविवार को ममता बनर्जी के करीबी माने जाने वाले कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के आवास पर सीबीआई की टीम शारदा चिटफंड घोटाले में पूछताछ करने के लिए पहुंची थी। लेकिन पुलिस ने अधिकारियों को हिरासत में ले लिया। इसके बाद से पूरा मामला सियासी हो गया। ममता बनर्जी ने सीबीआई की कार्रवाई को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ हमला बोल दिया। ममता बनर्जी मोदी सरकार के खिलाफ धरने पर बैठ गई। हालांकि सीबीआई ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चैलेंज किया। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश जारी करते हुए राजीव कुमार से कहा कि सीबीआई पूछताछ में सहयोग करें। अब राजीव कुमार शिलांग के लिए रवाना हो चुके हैं। सीबीआई उनसे वहीं पूछताछ करेगे। सीबीआई ने कहा था कि राजीव कुमार ने तथ्यों को छुपाया है और पूरी जानकारी मुहैया नहीं कराई है। शारदा चिटफंड घोटाले से संबंधित कुछ ऐसे सबूत हैं जिन्हें सीबीआई को नहीं सौंपा गया है। बता दें कि अब देखना दिलचस्प होगा कि राजीव कुमार से पूछताछ में सीबीआई को किया सबूत मिलते हैं और पश्चिम बंगाल की राजनीति के साथ देश की राजनीति में सीबीआई विवाद को किया असर पड़ता है।

 

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned