जानिए कब से शुरू होंगी पहले जैसी विमान सेवाएं, नागरिक उड्डयन मंत्री Hardeep Singh Puri ने दी जानकारी

  • देश में अभी तक सामान्य रूप से शुरू नहीं हो सकी हैं विमान ( flights ) सेवाएं।
  • केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ( Central Civil Aviation Minister Hardeep Singh Puri ) ने राज्यसभा में दी जानकारी।
  • दिवाली के बाद विमानों में यात्रियों की संख्या पहले जैसी रहने लगेगी।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी के चलते बीते 25 मार्च से देश में लागू लॉकडाउन के बाद तमाम सेवाओं को चरणबद्ध ढंग से खोला जा रहा है। हालांकि अभी भी रेलवे, मेट्रो और उड़ाने पहले की तरह सामान्य नहीं हो सकी हैं। हालांकि मंगलवार को केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ( Central Civil Aviation Minister Hardeep Singh Puri ) ने राज्यसभा में देश में उड़ानों ( flights ) को लेकर बड़ी जानकारी दी।

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ने बताया कि इस दीपावली और वर्ष के अंत तक भारत में विमान यात्रियों की संख्या मामले में उड़ानें कोरोना से पहले की तरह देखने को मिलने लगेंगी। उन्होंने कहा तब तक एक दिन में 3 लाख मुसाफिर यात्रा करने लगेंगे। पुरी ने उच्च सदन में विमान (संशोधन) विधेयक पर चर्चा किए जाने के दौरान इस बारे में बताया। इस विधेयक को लोकसभा ने पिछले सत्र में मंजूरी दे दी थी।

इस दौरान जहां तृणमूल कांग्रेस के सांसद दिनेश त्रिवेदी ने एयर इंडिया के महत्व पर प्रकाश डाला। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता केसी वेणुगोपाल ने हवाई अड्डों की नीलामी जीतने वाले अडानी समूह के मुद्दे को उठाया।

टीएमसी सांसद दिनेश त्रिवेदी ने राज्यसभा में आग्रह किया, "जब आप वंदे भारत मिशन की सराहना करते हैं, तो याद रखें कि वो एयर इंडिया ही था जो बचाव अभियान के लिए आगे आया था। अगर एयर इंडिया नहीं होगा, तो कोई प्राइवेट सेक्टर नहीं होगा। इसे सुधार की जरूरत है। इसको न बेचें।"

वहीं, कांग्रेस सांसद वेणुगोपाल ने कहा, "अडानी समूह द्वारा छह हवाई अड्डों के संचालन और उन्हें विकसित करने को लेकर नीलामी जीती है। एक निजी इकाई को हवाई अड्डे देने में स्पष्ट रूप से मानदंडों का उल्लंघन है। सरकार ने इस मामले में अपने कुछ मंत्रालयों और विभागों की सलाह को नजरअंदाज किया है। इन मानदंडों में किए गए बदलाव से अडानी समूह सभी छह नीलामी बोलियां हासिल करने में कामयाब रहा।"

बता दें कि 'विमान (संशोधन) बिल' 2020 को डीजीसीए, 'ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन सिक्योरिटी' (बीसीएएस) और 'एयरक्राफ्ट एक्सीडेंट इंवेस्टिगेशन ब्यूरो' (एएआईबी) द्वारा वैधानिक समर्थन मिला है। वहीं, देश में फिलहाल अभी सीमित मात्रा में ही विमान सेवाओं को संचालन किया जा रहा है और मुसाफिरों को कोरोना वायरस महामारी के चलते लागू केंद्रीय गृह मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय की मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) और दिशा-निर्देशों का पालन करना जरूरी है। इसके अंतर्गत मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना भी शामिल है।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned