केरल के बाद अब नगालैंड में ​त्राहिमाम, बाढ़ की वजह से 3 जिलों का राज्य से संपर्क टूटा

केरल के बाद अब नगालैंड में ​त्राहिमाम, बाढ़ की वजह से 3 जिलों का राज्य से संपर्क टूटा

दक्षिण राज्यों में बारिश से मची तबाही के बाद अब देश के पूर्वोत्तर राज्यों में बाढ़ से त्राहिमाम मच गया है। सबसे बुरा हाल नागालैंड का है।

कोहिमा। दक्षिण राज्यों में बारिश से मची तबाही के बाद अब देश के पूर्वोत्तर राज्यों में बाढ़ से त्राहिमाम मच गया है। सबसे बुरा हाल नागालैंड का है। यहां बाढ़ ने भारी तबाही मचाई है। आलम यह है कि बाढ़ प्रभावित इलाकों में अब तक 12 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। यहां तक कि राज्य का एक बड़ा हिस्सा बाढ़ के कारण अन्य हिस्सों से बिल्कुल कट गया है। वहीं राजधानी दिल्ली के साथ सीमावर्ती राज्यों से अधिकारियों की टीम नुकसान का जायजा लेने नगालैंड पहुंच चुकी है। आपको बता दें कि दिल्ली से रवाना हुई टीम में विभिन्न मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारियों के अलावा विशेषज्ञों का दल भी शामिल हैं।

कश्मीर: अपहरण मामले में महबूबा मुफ्ती के बोल- फोर्स और आतंकी एक दूसरे के परिवार को कर रहे प्रताड़ित

तुएनसैंग, किफिरे और फीक में सबसे बदतर हालत

जानकारी के अनुसार गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव केबी सिंह के नेतृत्व में सड़क, कृषि और वित्त मंत्रालय के अधिकारियों का एक दल मंगलवार शाम नगालैंड पहुंचा है। राज्य सरकार से मिली जानकारी के मुताबिक 'दिल्ली से पहुंचे दल ने दीमापुर आदि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया है। इसके साथ ही राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक भी की है। बाढ़ प्रभावित जिलों में सबसे बदतर हालत उनकी है, जो अन्य स्थानों से कट गए हैं। इनमें तुएनसैंग, किफिरे और फीक जिले शामिल हैं।

20 सेकंड में क्रैश हो जाता राहुल गांधी का प्लेन, डीजीसीए की रिपोर्ट से खुलासा

3000 से अधिक परिवार बेघर

ये जिले पिछले 15 दिनों से राज्य के अन्य स्थानों से कटे हुए हैं। इन जिलों के करीब 600 गांव बाढ़ की जद में आ चुके हैं। आकड़ों के अनुसार 359 ऐसी लोकेशन चिहिन्त की गई हैं, जो तरह कट चुकी है। यही कारण है कि राज्य भारी संकट से जूझ रहा है। बाढ़ पीड़ित 3000 से अधिक परिवार बेघर हो चुके हैं।

 

Ad Block is Banned