Amazon कुछ घंटों में TikTok पर बैन वाली बात से पलटा, कहा- गलती से ई-मेल भेजा गया

Highlights

  • अमेजन (Amazon) का कहना है कि टिक टॉक (TikTok) के संबंध में अभी हमारी नीतियों में कोई बदलाव नहीं हुआ है।
  • कंपनी का निर्देश था कि कर्मचारियों को शुक्रवार तक मुख्य रूप से अपने मोबाइल से इस एप को डिलीट करना होगा।

वाशिंगटन। ई-कॉमर्स (E-commerce) के क्षेत्र में अपनी धाक जमाने वाली कंपनी अमजेन ने ई-मेल भेजकर अपने कर्मचारियों से चीनी एप टिक टॉक (TikTok) को हटाने बात कही थी। मगर कुछ की घंटों के बाद ही अमेजन ने कहा कि ये मेल गलती से गया है। अमेजन (Amazon) ने अपने आधिकारिक बयान में कहा कि कुछ कर्मचारियों की चूक की वजह से ई-मेल भेजा गया है।

बात से पलटा अमेजन

गौरतलब है कि अमेजन ने पहले तो अपने कर्मियों को तुरंत टिक टॉक एप हटाने को कहा लेकिन कुछ ही देर बाद अमेजन अपनी बात पर पलट गया। अमेजन का कहना है कि TikTok के संबंध में अभी हमारी नीतियों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। अमेजन प्रवक्ता जैकी एंडरसन के अनुसार मीडिया को एक मेल कर इस बारे में सूचना दी गई है। सवालों के जवाब देने से इनकार करते हुए उन्होंने कहा कि ये मेल गलती से भेजा गया है।

दिग्गज बाइटडांस टिक-टॉक के मालिक

वॉलमार्ट के बाद अमेजन दूसरा सबसे बड़ा अमरीकी निजी नियोक्ता है, जिसके दुनिया भर में 8,40,000 से अधिक कर्मचारी हैं, और टिक-टॉक के खिलाफ जाने से एप पर दबाव बढ़ा है। चीनी इंटरनेट दिग्गज बाइटडांस टिक-टॉक के मालिक है। जिसे चीन के बाहर के उपयोग कर्ताओं के लिए डिजाइन किया गया है।

59 चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगाया था

अमेजन के ई-मेल में कर्मचारियों के फोन से एप टिक टॉक हटाने की बात कही गई थी। मीडिय रिपोर्ट के अनुसार अमेजन ने इसके लिए सुरक्षा कारणों के चलते लिया गया फैसला बताया है। बीते दिनों भारत सरकार ने भी डाटा सुरक्षा के मुद्दे पर टिक टॉक समेत 59 चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगाया था।

एप डिलीट करने को कहा

गौरतलब है कि अमेजन ने अपने कर्मचारियों को भेजे एक ई-मेल में कहा है कि सभी कर्मचारी अपने उन डिवाइस से इस एप को हटा दें, जिसमें वह 'अमेजन ई-मेल' सेवा का उपयोग कर रहे हैं। कर्मचारियों को शुक्रवार तक मुख्य रूप से अपने मोबाइल से इस एप डिलीट करना होगा। ऐसा न करने पर वे मोबाइल पर अमेजन की ईमेल सेवा का उपयोग नहीं कर सकेंगे। हालांकि, कंपनी ने यह भी कहा कि कर्मचारी अपने लैपटॉप में ब्राउजर से टिकटॉक का उपयोग कर सकते हैं।

टिकटॉक बैन के दिए संकेत

टिकटॉक को चलाने वाली चीन की बाइटडांस कंपनी है। यह एप दुनियाभर में शॉर्ट वीडियो बनाने के काफी मशहूर है। भारत में बैन किए जाने के बाद अमरीका में भी इस पर प्रतिबंध लगाए जाने की खबरें सामने आ रही है। इन खबरों में कहा गया था कि निजी डाटा की सुरक्षा को लेकर ट्रंप प्रशासन भी टिकटॉक पर बैन लगाने की तैयारी कर रहा है।

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned