America के लड़ाकू विमान शंघाई के बेहद करीब रेकी करने पहुंचे, बढ़ा तनाव

Highlights

  • अमरीकी वायुसेना के जंगी जहाज चीन के बेहद करीब पहुंच गए, ये मात्र 100 किमी की दूरी पर थे।
  • लगातार 12 दिन से अमरीकी सेना के विमान चीन के पास उड़ान भरकर रेकी कर रहे है।

बीजिंग। चीन (China) और अमरीका(America) के बीच तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है। ट्रेड वॉर, कोरोना वायरस (Coronavirus) और दक्षिण चीन सागर (South China Sea) को लेकर दोनों में अकसर टकराहट देखने को मिल रही है। इस बीच अमरीकी वायुसेना (American Airforce) के जंगी जहाज चीन के बेहद करीब पहुंच गए। यहां तक कि एक जहाज शंघाई से महज 100 किमी दूर जा पहुंचा। इस घटना के लेकर कहा जा रहा है कि यह सबसे नाजुक हालात को उत्पन्न कर सकता था।

ताइवान स्ट्रेट में दाखिल हुआ

पेकिंग यूनिवर्सिटी के थिंक टैंक साउथ चाइना सी स्ट्रैटीजिक सिचुएशन प्रोबिंग इनिशिएटिव के अनुसार P-8A ऐंटी सबमरीन विमान और EP-3E विमान रेकी करने के लिए ताइवान स्ट्रेट में दाखिल हुआ। इसने झेझियान्ग और फुजियान के तट पर उड़ान भरी। इसे लेकर रविवार को एक ट्वीट किया गया, जिसमें बताया कि रेकी करने वाले विमान फुजियान और ताइवान स्ट्रेट के दक्षिणी हिस्से तक पहुंचकर वापस लौटेगा।

इसके बाद जानकारी सामने आई कि अमरीकी नेवी का P-8A शंघाई के पास ऑपरेट कर रहा है। थिंक टैंक के मुताबिक P-8A शंघाई से काफी करीब 76.5 किमी नजदीक आ गया था जो हाल के सालों में बेहद करीबी घटना है। दूसरा जहाज फुजियान के 106 किमी पर था।

लगातार 12 दिन से अमरीकी सेना के विमान चीन के पास उड़ान भरकर रेकी कर रहे है। सोमवार को इंस्टिट्यूट ने ट्वीट कर बताया कि ऐसा लगता है कि अमरीकी वायुसेना का RC-135 रेकी करने वाल विमान ताइवान के एयरस्पेस में दाखिल हुआ है। हालांकि, संस्थान ने इसकी पुष्टि नहीं की। इसके साथ ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने इन दावों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। इसके बाद संसथान ने फिर ट्वीट कर कहा कि EP-3E चीन के गुआन्गडॉन्ग के 100 किमी नजदीक रेकी कर रहा है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned