इमरान खान ने यूएन में चीन की कोशिश को सराहा, कहा-कश्मीर को नैतिक व कूटनीतिक समर्थन जारी रहेगा

इमरान खान ने ट्वीट में कहा कि सुरक्षा परिषद द्वारा कश्मीर मुद्दे पर चर्चा से स्थिति की गंभीरता का पता चल रहा है

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के कहने पर कश्मीर मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उठाने की चीन की कोशिश भले नाकाम साबित हुई हो लेकिन पाकिस्तान के पीएम इमरान खान का मानना है कि सुरक्षा परिषद ने कश्मीर मुद्दे पर चर्चा की है और यह स्वागतयोग्य है।

यूएनएससी में चीन-पाक की साजिश हुई फेल, भारत का रूस और अमरीका ने दिया साथ

इमरान ने गुरुवार को ट्वीट कर यह बात कही। उन्होंने लिखा कि 'कश्मीर की समस्या को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचाना जाता है और यह सुरक्षा परिषद के एजेंडे का हिस्सा है। पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कश्मीर के मसले पर बहस का स्वागत करता है।

इमरान ने ट्वीट में कहा कि सुरक्षा परिषद द्वारा कश्मीर मुद्दे पर चर्चा से स्थिति की गंभीरता का पता चल रहा है। कश्मीर विवाद का हल सुरक्षा परिषद के पहले के प्रस्तावों और कश्मीरी अवाम की इच्छाओं के अनुरूप होना चाहिए। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान कश्मीरियों को आत्मनिर्णय का अधिकार मिलने तक उनका नैतिक व कूटनीतिक समर्थन जारी रखेगा।

गौरतलब है कि पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के भारत पर कई आरोप लगाने वाले पत्र के आधार पर चीन ने कश्मीर मुद्दा सुरक्षा परिषद में चर्चा के लिए रखा। बंद कमरे की इस चर्चा में अन्य सदस्यों का साथ चीन को नहीं मिला। अन्य सदस्य देशों ने कहा कि यह भारत और पाकिस्तान के बीच का द्विपक्षीय मामला है। इन दोनों देशों के पास इससे निपटने का तंत्र मौजूद है, इसमें सुरक्षा परिषद के दखल की कोई जरूरत नहीं है। इस तरह की बैठकों के बाद परिषद आम तौर से बयान जारी करती है लेकिन इस मामले में परिषद ने किसी बयान को जारी करने तक की जरूरत नहीं महसूस की।

Mohit Saxena Content Writing
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned