ब्रेक्जिट पर बढ़ी दरार, ब्रिटिश पीएम थेरेसा मे के लिए बड़ी चुनौती

ब्रेक्जिट पर बढ़ी दरार, ब्रिटिश पीएम थेरेसा मे के लिए बड़ी चुनौती

Navyavesh Navrahi | Publish: Mar, 29 2019 10:41:43 PM (IST) | Updated: Mar, 30 2019 02:36:48 PM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

  • ब्रिटेन का यूरोपीय यूनियन से अलग होना प्रस्तावित था
  • मसौदा खारिज होने से बढ़ा असमंजस
  • सांसद अन्य विकल्पों पर सोमवार को करेंगे विचार

लंदन । ब्रिटेन को यूरोपीय संघ से अलग करने के करार पर प्रधानमंत्री थेरेसा मे के एक और प्रस्ताव को ब्रिटिश सांसदों ने शुक्रवार को खारिज कर दिया। यह तीसरी बार है जब थेरेसा मे के प्रस्ताव के खिलाफ सांसदों ने वोट दिया है। इसकी वजह से यूरोपीय संघ से अलग होने की प्रक्रिया, ब्रेक्जिट को लेकर असमंजस की स्थिति और बढ़ गई है। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार- ब्रेक्जिट पर थेरेसा मे के इस करार मसौदे के पक्ष में संसद में 286 और विपक्ष में 344 वोट पड़े।

संयोग यह है कि शुक्रवार को ही ब्रिटेन का यूरोपीय यूनियन से अलग होना प्रस्तावित था और शुक्रवार को ही एक और मसौदे के खारिज होने से इस पूरी प्रक्रिया को लेकर असमंजस और बढ़ गया। मे ने कहा कि इस मतदान के 'गंभीर असर' होंगे और 'कानून' का कहना है कि 12 अप्रैल को युनाइटेड किंगडम (यूके) को अलग होना होगा। यह तीसरी बार है, जब ब्रेक्जिट पर करार के मसौदे को सांसदों ने खारिज किया है। एक अन्य मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि यूके, यूरोपीय संघ से अलग होने के लिए और समय की मांग कर सकता है। सांसद अन्य विकल्पों पर सोमवार को विचार करेंगे।

मे ने कहा कि- 'यह बेहद खेद का विषय है कि सदन यूरोपीय संघ से व्यवस्थित तरीके से अलग होने का एक बार फिर समर्थन नहीं कर सका। इस फैसले के गंभीर परिणाम होंगे। जो तय है, उसके हिसाब से महज 14 दिनों के अंदर यानी 12 अप्रैल तक यूके को अलग होना है।' उधर, विपक्षी लेबर पार्टी ने मे के इस्तीफे की और चुनाव कराने की मांग की है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned