नेपाल के कामी शेरपा ने बनाया विश्व रिकॉर्ड, 22वीं बार दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटी को किया फतह

नेपाल के 48 वर्षीय पर्वतारोही कामी रिता शेरपा ने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर 22वीं बार चढ़कर नया कीर्तिमान बनाया है।

नई दिल्ली। किसी शायर ने किया खूब लिखा है- 'मंजिल उन्ही को मिलती है जिनके सपनो में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है'। नेपाल के कामी रीता शेरपा इस बात को चरितार्थ किया है। नेपाल के 48 वर्षीय पर्वतारोही कामी रिता शेरपा ने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर 22वीं बार चढ़कर नया कीर्तिमान बनाया है। इस बार शेरपा ने 13 लोगों की टीम के साथ 8,845 मीटर ऊंची चोटी पर दक्षिणपूर्वी रिज रूट से चढ़ाई की। बता दें कि वर्ष 1953 में एवरेस्ट पर सबसे पहले पहुंचने वाले तेनजिंग नोरगे और सर एडमंड हिलेरी ने भी इसी रूट से अपना अभियान पूरा किया था। गौरतलब है कि इससे पहले एवरेस्ट पर सबसे ज्यादा 21 बार चढ़ाई करने का रिकॉर्ड कामी शेरपा के साथ उनके दो साथियों फुरबा ताशी शेरपा और अप्पा शेरपा के नाम था। नेपाल के सोलुखुंबू जिले के थामे गांव के रहने वाले कामी रीता अनुभवी पर्वतारोही हैं। वे K2, चो-ओयु, ल्होस्ते तथा अन्नपूर्णा सहित 8,000 मीटर से अधिक की ऊंचाई वाली अधिकांश चोटियों पर पहले ही चढ़ाई कर चुके हैं।

अपने साथियों के साथ बनाया विश्व रिकॉर्ड

आपको बता दें कि यह विश्व रिकार्ड अभी कामी रीता और उनके साथी अपा शेरपा और फुरबा ताशी शेरपा के नाम है। बता दें कि शेरपा एक समुदाय है जो ऊंची नेपाली पहाड़ियों की तराई में रहता है। माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई करने वाले विदेशी पर्वतारोही आम तौर से इन्हीं के मार्गदर्शन में अपना अभियान पूरा करना चाहते हैं क्योंकि बर्फ से ढंकी ऊंची-ऊंची चोटियों और दुर्गम इलाकों से इस समुदाय के लोग परिचित होते है और इनकी शारीरिक मजबूती दुरुह सफर में सहायक बनती है।

अरुणिमा सिन्हा ने महाकाल दर्शन को बताया एवरेस्ट फतह से भी ज्यादा कठिन

रीता ने कब-कब माउंट एवरेस्ट फतह किया

आपको बताते चलें कि रीता ने 1994 में पहली बार में ही माउंट एवरेस्ट फतह कर लिया था। उन्होंने अंतिम बार 27 मई 2017 को माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई की थी। उन्होंने कहा, "इस साल अगर मैं रिकॉर्ड बना लेता हूं तो भी मैं माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई को जारी रखूंगा।" उन्होंने 25 बार इस पर चढ़ाई करने का रिकॉर्ड बनाने की उम्मीद जताई। गौरतलब है कि साल 1953 में माउंट एवरेस्ट पर सर एडमंड हिलेरी और शेरपा तेनजिंग नॉर्गे द्वारा पहली बार चढ़ाई करने के बाद अभी तक लगभग 5,300 पर्वतारोही विश्व की सबसे ऊंची चोटी पर चढ़ाई कर चुके हैं।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned