बम का असर : उत्तर कोरिया पर संयुक्त राष्ट्र ने लगाए प्रतिबंध

Dharmendra Chouhan

Publish: Sep, 12 2017 02:15:00 PM (IST)

विश्‍व की अन्‍य खबरें
 बम का असर : उत्तर कोरिया पर संयुक्त राष्ट्र ने लगाए प्रतिबंध

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) ने सोमवार को उत्तर कोरिया पर अमरीका की सिफारिश से कई प्रतिबंध लगाए हैं।

संयुक्त राष्ट्र. लगातार परमाणु परीक्षण करने के कारण आखिरकार संयुक्त राष्ट्र ने उत्तर कोरिया पर कड़े प्रतिबंध लगा दिए। अमरीका ने भी प्रतिबंध लगाने की सिफारिश की जिसके बाद उत्तर कोरिया ने कहा कि हम अमरीका को ऐसा दर्द जो आज तक अमरीका ने नहीं झेला होगा।
उत्तर कोरिया पर प्रतिबंधों को लेकर अमरीका की मांगों की धार रूस और चीन ने कम कर दी। इससे संयुक्त राष्ट्र में इन दोनों देशों का प्रभाव झलकता है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) ने सोमवार को उत्तर कोरिया द्वारा संयुक्त राष्ट्र की पिछली प्रस्तावना की अवहेलना करने की आलोचना की थी और उसे अपने सभी बैलिस्टिक मिसाइल और परमाणु कार्यक्रमों को बंद करने के आदेश दिए थे।

तेल आपूर्ति और रोजगार पर रोक
इन नए प्रतिबंधों के तहत उत्तर कोरिया को किए जाने वाली तेल आपूर्ति को सीमित कर दिया गया है, उसके कपड़ा निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिए गए हैं, भावी रोजगारों को भी सीमित कर दिया गया है। उत्तर कोरिया से आने और जाने वाले जहाजों की जांच के लिए बिना बल प्रयोग के अन्य देशों को अनुमति दी गई है। हथियारों में इस्तेमाल होने वाले अधिक से अधिक सामानों और प्रोद्योगिकियों को प्रतिबंधित सूची में डाल दिया गया है। इसके अलावा तीन सरकारी एजेंसियों की संपत्तियों को भी जब्त किया गया। इसमें एक सैन्य एजेंसी भी है।

चीन-रूस के दबाव में अमरीका की नहीं चली
चीन और रूस के दबाव की वजह से उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन की यात्रा पर प्रतिबंध और उनकी संपत्तियों को फ्रीज करने की अमरीका की वास्तविक मांगों को पूरा नहीं किया गया है। अमरीका, उत्तर कोरिया के तेल निर्यात पर पूर्ण प्रतिबंध, विदेश में रह रहे उत्तर कोरिया के लगभग 93,000 नागरिकों को तत्काल भाव से नौकरी से हटाना चाहता था। अमरीका की स्थाई प्रतिनिधि निकी हेली ने संयुक्त राष्ट्र में वोटिग के बाद कहा कि अब उत्तर कोरिया के लगभग 90 फीसदी निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसके साथ ही लौह, लौह अयस्क,धातु, समुद्री भोजन और कोयला निर्यात पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। निक्की ने कहा कि इससे उत्तर कोरिया को सालाना 1.3 अरब डॉलर का नुकसान होगा। हेली ने चीन के प्रभाव को स्वीकार करते हुए कहा कि आज का मसौदा राष्ट्रपति ट्रंप और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच विकसित हुए मजबूत संबंधों के बिना नहीं होता। हम दोनों टीमों के हमारे साथ मिलकर काम करने की प्रशंसा करते हैं।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned