भाजपा के इस दिग्गज प्रत्याशी को नहीं है जीत का भरोसा, बोले इस वजह से मिल सकती है हार

भाजपा के इस दिग्गज प्रत्याशी को नहीं है जीत का भरोसा, बोले इस वजह से मिल सकती है हार

Iftekhar Ahmed | Publish: Apr, 21 2019 08:14:32 PM (IST) | Updated: Apr, 21 2019 08:14:33 PM (IST) Moradabad, Moradabad, Uttar Pradesh, India

  • चुनाव से पहले ही बयान देकर पार्टी में मचाई खलबली
  • बोले, इस बार नहीं बंट रहा है मुस्लिम वोट
  • 2014 में मोदी लहर पर सवार होकर हासिल की थी जीत
  • सीतरे चरण में मुरादाबाद में 23 अप्रैल को होना है मतदान

मुरादाबाद. सपा-बसपा गठबंधन इस बार भाजपा का पूरा समीकरण बिगाड़ दिया है। इसकी झलक भाजपा नेताओं के बयान और साक्षात्कार में भी झलकने लगी है। एसा ही एक बयान मुरादाबाद से भाजपा के प्रत्याशी का आया है। मुरादाबाद से भाजपा के प्रत्याशी कुंवर सर्वेश सिंह ने साफ शब्दों में कहा है कि इस बार का चुनाव आसाम नहीं है। सपा और बसपा गठबंधन की वजह से मुस्लिम वोटों में बिखराव नहीं होने की वजह से चुनाव जीतना मुश्किल है। Lok Sabha Election 2019 के मुरादाबाद से भाजपा प्रत्याशी का कहना है कि मुस्लिम वोटों के एक साथ आ जाने के कारण इस बार उनके लिए सीट बचाना बुहुत ही मुश्किल होगा। गौरतलब है कि 2014 के लोकसभा चुनावों में मोदी लहर पर सवार होकर मुरादाबाद सीट से भाजपा के कुंवर सर्वेश सिंह ने जीत हासिल की थी। लेकिन, इस बार स्थिति उलट दिखाई दे रही है। यहां तीसरे चरण के तहत 23 अप्रैल को मतदान होगा। इस बीच भाजपा उम्मीदवार कुंवर सर्वेश सिंह ने एक समाचार एजेंसी को दिए साक्षात्कार में बताया कि इस बार वह मुरादाबाद से दोबारा सांसद निर्वाचित होने को लेकर आश्वस्त नहीं हैं। उन्होंने बताया कि चुनाव इस बार मुश्किल होगा, क्योंकि मुस्लिम वोट नहीं बंट पा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: 48 फीसदी मत लेकर जिस सीट से भाजपा ने दर्ज की थी जीत, गठबंधन ने वहां का भी बिगड़ दिया खेल, बढ़ी टेंशन

 

गौरतलब है मुरादाबाद सीट से कांग्रेस ने युवा शायर इमरान प्रतापगढ़ी को अपना उम्मीदवार बनाया है। वहीं, सपा-बसपा और रालोद गठबंधन ने एसटी हसन को मैदान में उतारा है। मुरादाबाद से कांग्रेस और गठबंधन दोनों के ही प्रत्याशी मुस्लिम हैं। ऐसे में मुस्लिमों के वोट बंटने के कयास लगाए जा रहे थे। लेकिन, सूत्र बताते हैं कि मुरादाबाद के मुस्लिम मतदाताओं ने अभी तक यह तय नहीं किया है कि इस बार किस के पक्ष में वोट करना है। लेकिन, सूत्रों के मुताबिक यह मुरादाबाद के मुस्लिम वोटर इस बार अपना वोट बंटने देने के मूड में बिल्कुल नहीं है। लिहाजा माना जा रहा है कि इस बार मुस्लिम समुदाय जहां भी वोट देंगे, वहां एकमुश्त वोट देने पर विचार कर रहे हैं, ताकि उनका समर्थन निर्णायक साबित हो।

यह भी पढ़ें- प्रतिबंध के बाद अब सीएम योगी की चुनावी जनसभा हुई रद्द

दरअसल, मुरादाबाद लोकसभा सीट में मुस्लिम वोट काफी प्रभावशाली है। इस लोकसभा की कुल जनसंख्या का 47 प्रतिशत हिस्सा मुस्लिम समुदाय की है। अगर उनका वोट नहीं बंटा तो वे निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं। यही वजह है कि मुस्लिम वोटबैंक के एक हो जाने के चलते भाजपा की उम्मीद धूमिल दिखाई दे रही है। इसके अलावा मुरादाबाद में जाटव 9 प्रतिशत के करीब हैं और पारंपरिक तौर पर उन्हें बसपा के वोटर माना जाता है। वहीं, बात करें भाजपा प्रत्याशी कुंवर सर्वेश सिंह की तो उनकी इलाके के प्रभावशाली नेताओं में नाम आता है। वे पूर्व में मुरादाबाद लोकसभा के अन्तर्गत आने वाली ठाकुरद्वारा विधानसभा सीट से 5 बार विधायक रह चुके हैं। इसके अलावा 2014 में मुरादाबाद से सांसद बने। इसके अलावा उनका बेटा भी बरहापुर से विधायक है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned