यूपी का ये नगर निगम बना घोटालों का नर्सरी, इस बार इस तरह लाखों हड़पे

यूपी का ये नगर निगम बना घोटालों का नर्सरी, इस बार इस तरह लाखों हड़पे

Jai Prakash | Publish: Sep, 12 2018 08:39:48 PM (IST) Moradabad, Uttar Pradesh, India

निगम टैक्स विभाग में 60 से ज्यादा बिल बुक गायब हो गयीं हैं।राजस्व निगम के खजाने में जमा होना चाहिए था उसे गोलमाल कर लिया गया है।

मुरादाबाद: लाख कोशिशों के बाद भी नगर निगम से भ्रष्टाचार के काले धब्बे मिटने का नाम नहीं ले रहे हैं। आये दिन होने वाले घोटालों में एक और घोटाला जुड़ गया है। जिसके बाद पूरे नगर निगम प्रशासन में हडकंप मच गया है। इस बार निगम टैक्स विभाग में 60 से ज्यादा बिल बुक गायब हो गयीं हैं। जिसमें अनुमान लगाया जा रहा है कि जो राजस्व निगम के खजाने में जमा होना चाहिए था उसे गोलमाल कर लिया गया है। फ़िलहाल नगर आयुक्त अवनीश कुमार शर्मा ने पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

खुशखबरी: यूपी के इस शहर से अगले महीने से उड़ने लगेंगे हवाई जहाज

 

हाउस टैक्स-वाटर टैक्स की बिल बुक गायब

निगम द्वारा कर इंस्पेक्टर्स को लोगो से आवास कर ओर जल कर वसूलने के लिए रसीद बुक दी गई थी। कर विभाग के कर्मचारियों ने इन बुक से टैक्स भी वसूला। लेकिन आश्चर्यजनक रूप से नगर निगम से 60 से ज्यादा रसीद बुक गायब कर दी गई। निगम बोर्ड की बैठक के दौरान पार्षदों ने इस मामले को नगर आयुक्त के सामने उठाया। घपले का संज्ञान में आने के बाद नगर आयुक्त ने पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए है। अपर नगर आयुक्त को पूरे मामले की जांच सौंपी गई है। साथ ही उनसे जल्द पूरे मामले की रिपोर्ट देने को भी कहा गया है। फिलहाल मामला सामने आने के बाद नगर निगम में हड़कंप मचा हुआ है।

स्कूल की छत से लटकता दिखा हाथ,जब ऊपर जाकर देखा तो उड़ गए होश

 

जांच के आदेश

नगर आयुक्त अवनीश कुमार शर्मा आने बताया कि मामले में जानकारी में आने के बाद जांच के आदेश दिए गए हैं। अगर किसी भी अधिकारी या कर्मचारी की भूमिका संलिप्त मिली तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी।

कमिश्नर जब पहुंचे इस अस्पताल तो स्थिति देख उखडा पारा,उसके बाद फिर ...

 

पहले की घोटालों की जांच अधूरी

यहां बता दें कि इससे पहले भी नगर निगम में कई घोटाले चल रहे हैं जिसमें जांच के दावे दो कई हुए लेकिन अभी तक कार्यवाही किसी में भी नहीं हो पाई। इन्हीं में से टेंडर निरस्त घोटाले और करोड़ों के टेंडर पास होने पर नगर आयुक्त और मेयर में काफी दिन शीत युद्ध भी चला था। अब एक बार फिर सरकारी खजाने की लूट ने निगम प्रशासन पर सवाल खड़े कर दिए हैं। जिसमें ये साबित हो रहा हीब कि नगर निगम में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned