scriptStrange act of Bajrang Dal leaders exposed in Moradabad | बजरंग दल नेताओं की अजब कारस्तानी का खुलासा, पहले कराई गोकशी, फिर घेरा थाना, चार गिरफ्तार | Patrika News

बजरंग दल नेताओं की अजब कारस्तानी का खुलासा, पहले कराई गोकशी, फिर घेरा थाना, चार गिरफ्तार

locationमुरादाबादPublished: Feb 01, 2024 05:30:31 pm

Submitted by:

Mohd Danish

Moradabad Crime: मुरादाबाद में पुलिस ने गोकशी की घटनाओं को लेकर सनसनीखेज खुलासा किया है। इस वारदात को अंजाम किसी और ने नहीं बल्कि बजरंग दल के नेताओं ने कराई थी।

strange-act-of-bajrang-dal-leaders-exposed-in-moradabad.jpg
Moradabad Crime News: यूपी के मुरादाबाद से एक अजब मामला सामने आया है। जहां पुलिस ने गोकशी की घटनाओं को लेकर सनसनीखेज खुलासा किया। दरअसल थाना प्रभारी को हटवाने के लिए बजरंग दल के पदाधिकारियों ने ही गोकशी की घटनाओं को अंजाम दिलाया था। दबाव बनाने के लिए समर्थकों के साथ थाने का भी घेराव भी करते रहे। इस मामले में पुलिस ने बजरंग दल के जिला प्रमुख सुमित विश्नोई उर्फ मोनू सहित चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। कोर्ट में पेश करने के बाद सभी को जेल भेज दिया गया। वहीं दूसरी ओर आरोपियों से साठगांठ में छजलैट थाने के दरोगा को भी सस्पेंड किया गया है। एसएसपी ने विभागीय जांच के भी निर्देश दिए हैं।
एसएसपी ने किया खुलासा
मामला छजलैट क्षेत्र का है। एसएसपी हेमराज मीणा ने बुधवार को पुलिस लाइन में पत्रकारों से बातचीत के दौरान गोकशी की घटनाओं का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि छजलैट थाना क्षेत्र के समदपुर गांव के पास कांवड़ पथ पर 16 जनवरी को गोवंशीय पशु के अवशेष मिले थे। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की थी। इसके बाद 28 जनवरी की रात चेतरामपुर गांव के जंगल में गोकशी की घटना हुई। इस घटना का लाइव वीडियो बनाकर शासन के अधिकारियों के साथ ही डीएम को ट्वीट करके कार्रवाई की मांग की गई। मामले की जानकारी के बाद एसएसपी ने एसपी देहात संदीप कुमार मीना, सीओ कांठ अंकित तिवारी और छजलैट थाना प्रभारी सतेन्द्र शर्मा के नेतृत्व में टीम गठित कर घटना का पर्दाफाश करने के निर्देश दिए।
पुलिस पूछताछ में हुआ खुलासा
पुलिस ने जांच के बाद इस मामले में चेतरामपुर गांव निवासी शहाबुद्दीन को गिरफ्तार किया। पूछताछ में उसने बताया कि कांठ थाना क्षेत्र के रसूलपुर छज्जूपुर गांव निवासी सुमित विश्नोई उर्फ मोनू बजरंग दल का जिला प्रमुख है। कुछ दिन पहले वह अपने साथी रमन चौधरी निवासी खानपुर मुजफ्फरपुर छजलैट, राजीव चौधरी निवासी चक पचोकरा छजलैट के साथ मिला था। आरोपियों ने कहा कि छजलैट थाना प्रभारी उनकी बात नहीं मानते हैं। लिहाजा उन्हें हटाने के लिए गोकशी की घटनाएं करनी होंगी।
जिला प्रमुख सुमित विश्नोई उर्फ मोनू भी शामिल
आरोपियों ने बातचीत के बाद उसे दो हजार रुपये भी दिए। इसके बाद आरोपी शहाबुद्दीन ने अपने साथी नईम निवासी सिकरी छजलैट को वही रुपये देकर कांवड़ पथ पर गोवंशीय पशु के अवशेष रखवा दिए थे। इस घटना के बाद ही बजरंग दल के जिला प्रमुख सुमित विश्नोई उर्फ मोनू, प्रखंड अध्यक्ष राजीव चौधरी ने साथियों के साथ मिलकर छजलैट थाना प्रभारी को हटाने के लिए कांठ तहसील में विरोध प्रदर्शन किया था। प्रदर्शन के बाद भी कार्रवाई नहीं होने पर आरोपियों ने दोबारा से साजिश रची।
अधिकारियों के एक्स अकाउंट पर किया था ट्वीट
शहाबुद्दीन ने 28 जनवरी की रात दूसरे साथी जमशेद के साथ मिलकर चेतरामपुर गांव निवासी कमला देवी के घर के बाहर बंधी गाय को चोरी कर लिया। इसके बाद जंगल में जाकर दोनों ने उसे काट दिया। इस दौरान आरोपी सुमित उर्फ मोनू, राजीव चौधरी और रमन चौधरी ने घटना का रात में ही गाय काटते हुए वीडियो बनाया। इसके बाद उसे उच्च अधिकारियों के एक्स अकाउंट में ट्वीट करते हुए शिकायत की। आरोपियों ने केवल मुरादाबाद पुलिस को छोड़कर सभी अधिकारियों के एक्स अकाउंट में ट्वीट किया।
पुलिस की टीमें कर रही छापेमारी
घटना के बाद संदेह होने पर पुलिस ने पूरे मामले की जांच कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। घटना में शामिल दो आरोपी जमशेद और नईम अभी फरार हैं। इस मामले में दरोगा नरेंद्र को आरोपियों से साठगांठ के चलते निलंबित किया गया। पुलिस ने इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। एसएसपी ने बताया कि फरार आरोपियों की तलाश में पुलिस की टीमें छापेमारी कर रही हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो