उतर गया चंबल का पानी, फिर भी बरतें सतर्कता

24 घंटे में 8 मीटर उतरी चंबल, बाढ़ का खतरा टला, कलेक्टर ने किया निरीक्षण

By: rishi jaiswal

Published: 26 Aug 2020, 11:07 PM IST

मुरैना. उफन रही चंबल में 24 घंटे के भीतर आठ मीटर तक जलस्तर कम हो गया। मंगलवार को 134 मीटर तक पहुंचने के बाद चंबल में जलस्तर कम होने लगा और बुधवार दोपहर बाद चार बजे तक राजघाट पर चंबल का पानी 126 मीटर तक आ गया। लेकिन इसके बावजूद कलेक्टर अनुराग वर्मा न केवल राजघाट का दोपहर में दौरा किया बल्कि अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे जल स्तर कम होने के बावजूद सतर्कता बरतते रहें।

कोटा बैराज से शनिवार को 3.60 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने के बाद चंबल सोमवार शाम से मंगलवार सुबह तक 3.20 मीटर चढ़कर 134 मीटर पर आ गई थी। ऐसा कहा जा रहा था कि राजघाट पर चंबल खतरे के निशान 138 मीटर को भी टच कर सकती है। लेकिन पानी धीरे-धीरे निकल गया और बाढ़ का खतरा टल गया। कलेक्टर ने सिंचाई विभाग एवं राजस्व अधिकारियों को बाढ़ की चपेट में आने वाले ग्रामों में 24 घंटे सतत संपर्क बनाये रखने के निर्देश दिए। चंबल पर राजघाट के पुराने पुल पर भ्रमण कर कलेक्टर ने किनारों की स्थिति को भी देखा। अनुविभागीय अधिकारी राजस्व आरएस बाकना सहित अन्य विभागीय अधिकारी भी मौजूद रहे।

जिले में अब तक 445.2 मिमी बारिश

जले में अब 445.2 एमएम बारिश दर्ज की गई है। बीते साल इसी अवधि में 476.6 एमएम बारिश हुई थी। बीते साल की तुलना में इस साल 31.4 एमएम बारिश कम है। अधीक्षक भू-अभिलेख से प्राप्त जानकारी के अनुसार 25 अगस्त को सुबह तक जिले में सर्वाधिक 570.2 मिलीमीटर वर्षा मुरैना में दर्ज की गई है। सबलगढ़ में 51&, जौरा में 46&, पोरसा 460, अंबाह में &64, कैलारस में सबसे कम &01 एमएम बारिश दर्ज की गई है।


134 मीटर तक पहुंचा था सोमवार शाम चंबल का पानी

126 मीटर पर आ गया बुधवार को चंबल का जलस्तर

138 मीटर पर है चंबल के राजघाट पर खतरे का निशान।

70 से Óयादा गांव आते हैं चंबल की बाढ़ से प्रभावितों में

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned