MOVIE REVIEW: 'फन्ने खां' के 'अच्छे दिन' पर कमजोर कहानी ने फेरा पानी
Amit Kumar Singh
Publish: Aug, 03 2018 05:49:26 (IST)
MOVIE REVIEW: 'फन्ने खां' के 'अच्छे दिन' पर कमजोर कहानी ने फेरा पानी

इस शुक्रवार अनिल कपूर, ऐश्वर्या राय और राजकुमार रॉव स्टारर फिल्म फन्ने खां रिलीज हुई है। यह एक म्यूजिकल कॉमेडी फिल्म है जिसमें अनिल कपूर लीड रोल में हैं।

 

आर्यन शर्मा

डायरेक्शन: अतुल मांजरेकर
स्क्रीनप्ले: अतुल, हुसैन, अब्बास दलाल
म्यूजिक: अमित त्रिवेदी
रेटिंग: 2.5 स्टार

स्टार कास्ट : अनिल कपूर, ऐश्वर्या राय बच्चन, राजकुमार राव, दिव्या दत्ता, पीहू, गिरीश कुलकर्णी, सतीश कौशिक, आसिफ बसरा, स्वाति सेमवाल


बेल्जियम की मूवी 'एवरीबडीज फेमस!' से प्रेरित डायरेक्टर अतुल मांजरेकर की फिल्म 'फन्ने खां' सपनों और उम्मीदों की कहानी है। इसमें नायक को अपने सपने को पूरा करने के लिए किसी भी हद तक जाते हुए दिखाया गया है। यह कहानी है प्रशांत शर्मा उर्फ फन्ने खां (अनिल) की, जो मोहम्मद रफी की तरह कामयाब सिंगर बनना चाहता था। उसका ख्वाब पूरा नहीं होता, लिहाजा वह बेटी लता (पीहू) को लता मंगेशकर बनाने के सपने देखने लगता है। प्लस साइज होने के कारण लता को बॉडी शेमिंग फेस भी करनी पड़ती है। कहानी में मोड़ तब आता है जब फन्ने खां व उसका दोस्त अधीर (राजकुमार) स्टार सिंगर बेबी सिंह (ऐश्वर्या) का किडनैप कर लेते हैं।

ब्रह्मास्त्र' की शूटिंग पूरी कर लौटीं आल‍िया, साथ में कूल लुक में नजर आईं डिंपल कपाड़‍िया

 

 

fanney

एक्टिंग-डायरेक्शन

फिल्म में सपनों की उड़ान और पिता-पुत्री के रिश्ते को पिरोया है। फिल्म का प्लॉट अच्छा है, पर उसे स्क्रिप्ट व स्क्रीनप्ले में बेहतर ढंग से तब्दील करने में चूक हो गई। अनिल अपनी परफॉर्मेंस से फन्ने खां साबित हुए हैं। उन्होंने लोअर मिडिल क्लास शख्स का रोल बखूबी निभाया है, जिसे अपने सपने को पूरा करने का जुनून है। बेटी की भूमिका में पीहू ठीक लगी हैं। अनिल व पीहू के पिता-पुत्री की नोक-झोंक वाले कुछ सीन अच्छे बन पड़े हैं। ऐश्वर्या और राजकुमार का काम ठीक है, लेकिन उनके किरदार ढंग से नहीं लिखे गए। 'अच्छे दिन' को छोड़ दिया जाए तो इस म्यूजिकल फिल्म का गीत-संगीत कुछ खास नहीं है। सिनेमैटोग्राफी आकर्षक है।

PHOTOS : फिल्म 'बद्रीनाथ' में 4 एक्‍ट्रेस संग रोमांस करेंगा ये एक्टर

 

fanney

क्यों देखें
'फन्ने खां' अनिल की अच्छी परफॉर्मेंस पर कमजोर कहानी ने पानी फेर दिया। फिल्म में संगीत से लगाव और पिता-पुत्री के रिश्ते की कहानी है, पर इमोशंस के मामले में फीकी है। ऐसे में अगर आप अनिल के फैन हैं तो ही देखें 'फन्ने खां'।

ये हैं बी-टाउन के जिगरी यार, एक की जोड़ी पर उठ चुका है सवाल

fanney