Movie Review: हकीकत और ड्रामे की गजब डोज है "फैंटम"

Divya Singhal
| Updated: 27 Aug 2015, 11:46:00 AM (IST)
  Movie Review: हकीकत और ड्रामे की गजब डोज है
Phantom

मुंबई की 26/11 की घटना को बी-टाउन के नामचीन निर्देशक कबीर खान ने वाकई में अपने निर्देशन के तहत सही से उकेरा है

रेटिंग: *** स्टार
रोहित तिवारी/ मुंबई ब्यूरो। इंडस्ट्री को "एक था टाइगर", "बजरंगी भाईजान" जैसी हिट फिल्में दे चुके कबीर खान अब अपने अंदाज में ऑडियंस के सामने फिल्म "फैंटम" लेकर आए हैं। कबीर ने अपनी अन्य फिल्मों की तरह इस फिल्म में भी गजब के निर्देशन की कमान संभाली है। उन्होंने पूरा विश्वास है कि उनकी अन्य हिट फिल्मों की तरह यह फिल्म भी बेहतरीन रिस्पॉन्स देगी।



कहानी:
फिल्म की कहानी एक तरह के एक्सीडेंट से शुरू होती है। फिर कहानी को आगे बढ़ाते हुए दिखाया जाता है कि देश-दुनियां की सुर्खियों में रह चुकी मुंबई की 26/11 सन 2008 की घटना को, जिसमें लगातार तीन दिन और तीन रात में करीब 160 बेगुनाह लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा था। बहरहाल, दनियाल खान (सैफ अली खान) को एक एक्सीडेंट में जेल हो जाती है। सालों बाद जब भारत की इंटेलिजेंस एजेंसी "रॉ" को मोहम्मद जीशान अयूब की रणनीति समझ में आती है। फिर "रॉ" के लोग मिलकर एक प्लान बनाते हैं, जिसकी खबर भारत सरकार को भी नहीं लगने दी जाती है। उसी के तहत दनियाल को पाकिस्तान भेजा जाता है, लेकिन उसे खुद की गलती के कारण "रॉ" की ओर से साफ संकेत नहीं मिल पाते। फिर भी दनियाल निर्णय करता है कि वह पाकिस्तान में जाकर 26/11 की घटना के सरताज को अंजाम तक पहुंचाएगा। अब "रॉ" का साथ न देने की वजह से दानियाल भी बेहद लाचार हो जाता है कि वह पाकिस्तान में लाहौर ताक कैसे पहुंचेगा। इसी के साथ उसकी मुलाकात नवाज मस्त्री (कैटरीना कैफ) से होती है, जो उस घटना में अपनों को खो चुकी है। अब भारत सरकार समेत "रॉ" का साथ भी न होते हुए नवाज उसे पाकिस्तान में पहुंचाने का निर्णय लेती है। इसी के साथ कहानी में गजब का ट्विस्ट आता है और स्क्रिप्ट तरह-तरह के मोड़ लेते हुए आगे बढ़ती है।

एक्टिंग
सैफ अली खान ने वाकई में इस फिल्म से अपनी पुरानी फिजा को मिटाने की भरपूर कोशिश की है, जो उनकी पुरानी फिल्मों से किरकिरी हो चुकी थी। उन्होंने अपने अभिनय से साबित कर दिखाया है कि कोशिशें कभी जाया नहीं जातीं। वाकई में उन्होंने अपनी पुरानी फिल्मों से सबक लेते हुए इस फिल्म में अपने किरदार की तह तक जाने के प्रयास में रहे, लेकिन इस बार भी वे पूरी तरह से सफल नहीं हो सके। कैटरीना कैफ ने अपने रोल में काफी कुछ अच्छा किया है, वे अपने रोल में बखूबी दिखाई दीं। साथ ही उनके अभिनय को ऑडियंस की भी सराहना मिली है। इसके अलावा मोहम्मद जीशान अयूब और सब्यसाची चक्रवर्ती अपने-अपने रोल में सटीक नजर आए। साथ ही फिल्म में सोहैला कपूर की कुछ देर की मौजूदगी ही सही, लेकिन ऑडियंस को समझ नहीं आती। खैर, कुछ देर की फुटेज में जीशान बाजी मारते दिखाई दिए। इसके अलावा इस फिल्म में अभिनय करने वाले सभी लोगों ने अपनी भूमिका को निभाने का भरसक प्रयास किया है।



निर्देशन:
देश-दुनिया की सुर्खियां बन चुकी मुंबई की 26/11 की घटना को बी-टाउन के नामचीन निर्देशक कबीर खान ने वाकई में अपने निर्देशन के तहत सही से उकेरा है। साथ ही वे करीब छह साल पुरानी उस काली रात को अपने चाहने वालों के बीच काफी रोमांचक तरीके से परोसने में भी काफी हद तक सफल रहे। कबीर खान ने वाकई में साबित कर दिखाया है कि वे इंडस्ट्री में अपने अलग अंदाज में फिल्में दे रहे हैं। उनके जुदा अंदाज को ऑडियंस भी जमकर पसंद कर रही है। कबीर ने निर्देशन में एक्शन का गजब तड़का दर्शकों के लिए परोसा है। इस फिल्म के निर्देशन में वे काफी हद तक सफल दिखाई दिए। वाकई में कबीर ने कुछ अलग करने की दमदार कोशिश की है, इसीलिए वे ऑडियंस की वाहवाही बटोरने में थोड़ा सफल रहे। स्क्रिप्ट भले ही कहीं-कहीं पर थोड़ी डगमगाती नजर आई, लेकिन इसकी कहानी ऑडियंस को आखिरी तर्ज तक बांधे रखने में काफी हद तक सफल भी रही। वैसे उन्होंने इससे यह तो प्रूव कर दिखाया है कि फिल्म चाहें जो भी हो, बस जरूरत होती है उसमें रणनीति और सोच-समझ कर के निर्देशन की। बहरहाल, इसमें कई लोकेशन और एक्शन कालिब-ए-तारीफ रहे, लेकिन अगर कॉमर्शियल और टेक्नोलॉजी के अंदाज को छोड़ दिया जाए तो इस फिल्म की कोरियोग्राफी कुछ अलग और खास करने में कहीं-कहीं असफल रही। संगीत (प्रीतम चक्रवर्ती) तो कहीं-कहीं पर ऑडियंस को भाता भी है, लेकिन गाने की तुलना में काफी हद तक कमजोर रहा।

क्यों देखें:
कबीर खान के निर्देशन का अलग अंदाज और सैफ की अदाकारी में इम्प्रूवमेंट देखने के लिहाज से आप सिनेमाघरों का रुख कर सकते हैं, लेकिन फैमिली एंटरटेनमेंट के लिहाज से नहीं। साथ ही आपको अपनी जेब ढीली करने में निराशा भी नहीं होगी...आगे इच्छा आपकी...।



बैनर : नाडियाडवाला ग्रैंडसन एंटरटेंमेंट, यूटीवी मोशन पिक्चर्स
निर्माता : साजिद नाडियाडवाला और सिद्धार्थ रॉय कपूर
निर्देशक : कबीर खान
जोनर : थ्रिलर, ड्रामा, एक्शन, सोशल
संगीत : प्रीतम चक्रवर्ती
गीतकार : सईद असरार शाह
एक्शन : शाम कौशल
स्टारकास्ट: सैफ अली खान, कैटरीना कैफ, मोहम्मद जीशान अयूब, सब्यसाची चक्रवर्ती, सोहैला कपूर



Show More