तो चौपट हो जाएगा सोमैया का राजनीतिक करियर!

शिवसेना माफ करने के मूड में नहीं

By: Nitin Bhal

Published: 29 Mar 2019, 09:34 PM IST

मुंबई। ईशान्य (उत्तर पूर्व) मुंबई से यदि इस बार किरीट सोमैया को टिकट नहीं मिला तो उनके राजनीतिक करियर को बड़ा झटका लगेगा। सूत्रों के अनुसार किरीट 65 साल के हो चुके हैं। यदि इस बार लोकसभा में जाने का मौका छीन गया तो अगली बार 70 की उम्र पार कर चुके किरीट को पार्टी वरिष्ठों की सूची में डालकर पीछे धकेल देगी। शायद इसी लिए अपनी गलतियों पर पछताते हुए अब किरीट उद्धव ठाकरे के पैर भी पडऩे को तैयार हैं। शिवसेना की कड़ी नाराजगी के चलते किरीट को अब तक भाजपा ने टिकट नहीं दिया है। उनका मामला अब भी साफ़ नहीं हो पाया है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की बैठक में देर तक मंथन भी किया गया। सूत्रों की मानें तो इस मामले में मुख्यमंत्री ने उद्धव ठाकरे से फोन पर संपर्क भी किया किन्तु परिणाम शून्य रहा है। तमाम प्रयास के बाद भी शिवसेना किरीट सोमैया को माफ करने के मूड में नहीं है। अब इस मामले में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पर फैसला छोड़ा गया है। किरीट का राजनीतिक भविष्य बड़े नाजुक मोड़ पर है। भाजपा में हमेशा आडवाणी गुट में रहे किरीट सोमैया को प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह भी ज्यादा पसंद नहीं कर रहे हैं। किरीट पिछले लोकसभा चुनाव से पहले ब्रांड नेता माने जाते थे। देशभर में उनकी चर्चा थी, लेकिन सांसद बनने के बाद वे बिलकुल शांत हो गए। भाजपा ने भी उन्हें दरकिनार कर दिया।

मुश्किल है टिकट मिलना

उधर, सूत्रों की मानें तो भाजपा भी किरीट को टिकट देने के मूड में नहीं है। ऐसे में शिवसेना का विरोध किरीट के लिए दोहरी मार साबित हो सकता है। इस सीट को जीतने के लिए भाजपा को कोई फायरब्रांड नेता ही लाना पड़ेगा अन्यथा यह सीट निकालना मुश्किल होगी। यह बात भाजपा भी समझ रही है ऐसे में शिवसेना की नाराजगी के बाद किरीट को घर बिठाना ही एकमात्र विकल्प नजर आ रहा है।

अड़ी हुई है शिवसेना

शिवसेना ने साफ कह दिया है कि भाजपा किसी भी प्रत्याशी को उतारे लेकिन किरीट को किसी भी कीमत पर टिकट नहीं मिलना चाहिए। अन्यथा शिवसेना मैदान में उतारेगी। शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि किरीट को शिवसेना पसंद नहीं करती है। उनकी गलतियों को माफ नहीं करेंगे। यदि उन्हें टिकट दिया गया तो उन्हें हारने का काम शिवसेना करेगी। हम भाजपा के साथ हैं लेकिन किरीट के नहीं। किरीट के लिए भाजपा के तमाम नेताओं की कड़ी मशक्कत के बाद भी शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के मामले में टस से मस नहीं हो रहे हंै। उद्धव ने तो किरीट से मिलने तक से इन्कार कर दिया है।

BJP
Nitin Bhal Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned