बाढ़ प्रभावित इलाकों के दावों का जल्दी निपटान करें बीमा कंपनियांः वित्त मंत्रालय

बाढ़ प्रभावित इलाकों के दावों  का जल्दी निपटान करें बीमा कंपनियांः वित्त मंत्रालय

Ashutosh Kumar Verma | Updated: 18 Aug 2019, 02:59:24 PM (IST) म्‍युचुअल फंड

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना तथा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना समेत विभिन्न पॉलिसी के तहत दावों का निपटान शीघ्रता से किया जायेगा।

नई दिल्ली। वित्त मंत्रालय ने बीमा कंपनियों से कर्नाटक, महाराष्ट्र और केरल समेत बाढ़ प्रभावित विभिन्न राज्यों में बीमा धारकों के दावों के निपटान प्रक्रिया में तेजी लाने को कहा है। सूत्रों ने यह जानकारी दी।

सूत्रों ने कहा कि मंत्रालय ने बीमा कंपनियों से प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना तथा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना समेत विभिन्न पॉलिसी के तहत दावों का निपटान शीघ्रता से करने को कहा है।

यह भी पढ़ें - कंगाल पाकिस्तान में रहना भी मुहाल, किराये से लेकर बेरोजगारी तक में भारी इजाफा

इरडा ने बाढ़ प्रभावित इलाकों के मामले का निपटान सुनिश्चित करने को कहा

बाढ़ के कारण कई राज्यों में जानमाल के नुकसान की खबर है। बीमा नियामक इरडा ने जीवन बीमा कंपनियों को भेजे पत्र में कहा है कि भारी बारिश और बाढ़ के कारण कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र और गुजरात जैसे राज्यों में जानमाल के नुकसान की रिपोर्ट है। बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (इरडा) ने बीमा कंपनियों से कहा, "इससे जुड़े दावों के यथाशीघ्र निपटान सुनिश्चित करने के लिये तत्काल कदम उठायें।"

यह भी पढ़ें - खादी को 'मेक इन इंडिया' से मिला बूस्ट, कमाई के मामले में हिंदुस्तान यूनीलीवर को भी छोड़ा पीछे

जमा करनी होगी साप्ताहिक आधार पर राज्यवार रिपोर्ट

इरडा ने लोगों की मौत के मामलों में जहां मृतक का शरीर नहीं मिलने के कारण मृत्यु प्रमाणपत्र प्राप्त करने में समस्या है, बीमा कंपनियों से 2015 में चेन्नई बाढ़ में अपनायी गयी प्रक्रिया का पालन करने को कहा है। साथ ही बीमा कंपनियों से दावों के निपटान के बारे में साप्ताहिक आधार पर राज्यवार प्रगति रिपोर्ट देने को कहा।

इरडा ने साधारण बीमा कंपनियों तथा स्वास्थ्य बीमा कंपनियों से भी दावों के निपटान में तेजी लाने को कहा है। उन कंपनियों से यह सुनिश्चित करने को कहा है कि दावों के बारे में सर्वे तत्काल हों और उसका वितरण यथाशीघ्र किया जाए।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned