कैराना उपचुनावः अब इस उम्मीदवार ने गठबंधन की प्रत्याशी का किया ऐलान, बीजेपी की बढ़ी टेंशन

सीएम योगी के आने से पहले हुआ देवर-भाभी का मिलन

By: Iftekhar

Published: 24 May 2018, 04:02 PM IST

शामली. कैराना उपचुनाव से पहले उत्तर प्रदेश की राजनीति में नया मोड़ आ गया है। महागठबंधन बनने के बाद पहले से ही मुश्किलों का सामना कर रही भाजपा के लिए गुरुवार को एक और बुरी खबर आई। महागठबंधन को मजबूत करते हुए लोकदल प्रत्याशी कंवर हसन ने राष्ट्रीय लोकदल प्रत्याशी और अपनी भाबी तबस्सुम हसन को समर्थन का ऐलान कर दिया है। अभी तक कंवर हसन गठबंधन की प्रत्याशी तबस्सुम हसन के विरोध में लोक दल के टिकट पर चुनाव मैदान में ताल ठोक रहे थे। आपको बता दें कि कंवर हसन और तबस्सुम हसन के बीच देवर-भाभी का रिश्ता है। वहीं, इनके मिलन से भाजपा खेमे में हलचल बढ़ गई है। अब तक भाजपा को उम्मीद थी कि मुस्लिम वोट बंटने से उसे फायदा होगा, लेकिन जैसे ही कंवर हसन ने अपनी भाभी और राष्ट्रीय लोक दल प्रत्याशी तबस्सुम हसन के समर्थन का ऐलान किया भाजपा खेमे में हलचल तेज हो गई है।

आवारा कुत्तों की अस्पताल में एंट्री बैन करने पर पीएम मोदी की इस मंत्री से CMS को मिली धमकियां


योगी की जनसभा से पहले लगा झटका

गुरुवार को कैराना में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की जनसभा से ठीक पहले भाजपा को एक और झटका लगा। अभी तक तबस्सुम हसन के विरोध में चुनाव मैदान में खड़े लोकदल प्रत्याशी और उनके देवर कंवर हसन ने राष्ट्रीय लोकदल को समर्थन देने की घोषणा कर दी। मुख्यमंत्री की जनसभा से पहले ही इस प्रोग्राम की फोटो वायरल सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। सोशल मीडिया पर जब फोटो आई तो कैराना उपचुनाव की राजनीति में एक हलचल मच गई।

कुत्ता काटने से घायल शख्स को जब अस्पताल में भी दिखा कुत्तों का झुंड तो हुआ...

'आप' ने भी दिया समर्थन

शुक्रवार को आम आदमी पार्टी (आप) ने भी गठबंधन प्रत्याशियों को समर्थन का ऐलान कर दिया था। पार्टी के एक जिम्मेदार नेता ने ट्वीट करके लिखा था कि 2019 में भाजपा को हराने के लिए सभी को एकजुट होना चाहिए। अब तबस्सुम हसन के विरोध में चुनाव मैदान में उतरे उनके देवर कंवर हसन ने भी रालोद प्रत्याशी को अपना समर्थन दे दिया है।

दिल्ली-एनसीआर में पारा हुआ 44 के पार, लू और गर्मी से ऐसे करें बचाव तो सेहत पर नहीं पड़ेगा कोई बुरा असर

भाजपा के लिए चुनौती
कैराना उपचुनाव में जिस तरह से छोटे- बड़े सभी दल एक होते जा रहे हैं। ऐसे में यह भाजपा के लिए बड़ी मुश्किल साबित होने वाला है। उधर, भाजपा ने भी कैराना उपचुनाव में पूरी ताकत झोंक रखी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद तीन दिन में दो चुनावी सभाएं कर रहे हैं। सहारनपुर के अंबेहटा में जनसभा करने के बाद अब कैराना में मुख्यमंत्री की जनसभा है। भाजपा के दर्जनभर से अधिक वरिष्ठ नेता और मंत्री कैराना और सहारनपुर में डेरा डाले हुए हैं।

भाजपा विधायक ने योगी सरकार में फैले भ्रष्टाचार के खिलाफ खोला मोर्चा, शहर में हाई अलर्ट

मुस्लिम वोटों का अब नहीं होगा बंटवारा
कंवर हसन ने लोकदल पार्टी से दावेदारी की थी। उनकी दावेदारी के बाद से गठबंधन प्रत्याशी पर हार का संकट मंडरा रहा था। इसका एक मुख्य कारण यह था कैराना लोकसभा सीट पर मुस्लिम वोट बैंक का दोहरीकरण हो रहा था। गुरुवार को रालोद उपाध्यक्ष जयंत चौधरी की मौजूदगी में कंवर हसन ने अपनी भाभी तबस्सुम हसन को समर्थन दे दिया। अब भाजपा प्रत्याशी की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं क्योंकि जिन वोटों का बंटवारा भाभी और देवर को लेकर हो रहा था, अब वह एक ही प्लेटफार्म पर आता नजर आ रहा है। शामली के गांव जसाला में जयंत चौधरी ने भाभी और देवर के बीच चल रही तनातनी को शांत करा दिया। जयंत द्वारा बुलाई गई इस मीटिंग में नाहिद हसन के चाचा अनवर हसन और कंवर हसन सहित सैकड़ों की संख्या में कार्येकर्ता मौजूद रहे।

डिप्टी सीएम के सामने नतमस्तक दिखे कैराना उपचुनाव के पीठासीन अधिकारी, निष्पक्षता पर सवाल

यह कहा कंवर हसन ने

इस बारे में कंवर हसन का कहना है कि जब पूरा देश भाजपा के खिलाफ एकजुट हो रहा है तो वह क्यों अलग जाएं, इसीलिए उन्होंने भी तबस्सुम हसन को समर्थन दे दिया है। उनके परिवार में इतने बड़े मतभेद नहीं थे कि उन्हें खत्म ना किया जा सके। अब वह राष्ट्रीय लोकदल के साथ हैं। लोकदल के बारे में उन्होंने भी बोलने से इनकार कर दिया। सिर्फ इतना बोले कि लोकदल क्या करेगी, यह लोकदल वाले जानें। अब वह गठबंधन की प्रत्याशी तबस्सुम हसन के लिए ही चुनाव प्रचार करेंगे।

 

 

Show More
Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned