शामली पुलिस के खिलाफ महिलाओं का थाने में धरना, दारोगा पर लगाया गाली-गलौच का आरोप, देखें वीडियो

शामली पुलिस के खिलाफ महिलाओं का थाने में धरना, दारोगा पर लगाया गाली-गलौच का आरोप, देखें वीडियो

Rahul Chauhan | Publish: Sep, 06 2018 07:21:39 PM (IST) Muzaffarnagar, Uttar Pradesh, India

आरोप है कि एसपी ऑफिस पर मौजूद एक दारोगा ने पीड़ित महिलाओं के साथ आए युवक से जमकर गाली-गलौच और अभद्रता की।

शामली। यूपी पुलिस की बदसलूकी की कहानी किसी से छुपी नहीं है। आए दिन पुलिस द्वारा गाली-गलौच व मारपीट की खबरें आम हैं। ताजा मामला शामली एसपी ऑफिस का है, जहां थानाभवन पुलिस पर बदसलूकी के आरोप में दर्जनों महिलाएं एसपी ऑफिस पर धरना देने के लिए मौजूद थीं। जिससे गुस्साए एसपी ऑफिस पर तैनात दारोगा जी ने पीड़ितों के साथ गाली गलौच व थाने में बंद करने की धमकी तक दे डाली।

यह भी पढ़ें-राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्षा सुषमा सिंह ने सांई बाल कुटीर अनाथालय में मारा छापा, देखें वीडियो

आपको बता दें कि महिलाएं एसपी कार्यालय पर मौजूद हैं। पीड़ित महिलाएं थानाभवन थाना क्षेत्र के खानपुर गांव की रहने वाली है। महिलाओं का आरोप है कि थानाभवन पुलिस द्वारा उनके घरों में जबरन घुसकर तोड़फोड़ व अभद्रता की गई है। जिसके विरोध में दर्जनों महिलाएं गुरुवार को एसपी ऑफिस पर शिकायत लेकर पहुंची थीं, लेकिन महिलाओं को एसपी ऑफिस पर भी पुलिस की अभद्रता का शिकार होना पड़ा। आरोप है कि एसपी ऑफिस पर मौजूद एक दारोगा ने पीड़ित महिलाओं के साथ आए युवक से जमकर गाली-गलौच और अभद्रता की। यही नहीं दारोगा ने उनको जेल भेजने की धमकी तक दे डाली। मामला यहीं नहीं शांत हुआ महिलाओं ने एडिशनल एसपी से भी पुलिस द्वारा अभद्रता की शिकायत की है। पीड़ितों का कहना है कि दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

यह भी पढ़ें-सुप्रीम कोर्ट की वकील फराह फैज ने अपने धर्म परिवर्तन पर किया बड़ा खुलासा कही ये बात, देखें वीडियो

यह भी पढ़ें-इस शहर में बेखौफ बदमाशों को नहीं है योगी की पुलिस का डर, डकैती के साथ ही दिया गैंगरेप की वारदात को अंजाम

हालांकि जब इस मामले में एडिशनल एसपी अजय प्रताप सिंह से बात की गई तो उनका कहना था कि खानपुर के करीब 6 लोगों को लूट के मामले में जेल भेजा गया था, जो अब जमानत पर बाहर हैं। पुलिस को सूचना मिली थी कि यह लोग अवैध हथियार बनाने का कारोबार कर रहे हैं। जिसकी सूचना पर पुलिस उनके घर की जांच पड़ताल के लिए पहुंची थी।

यह भी देखें-SC ST एक्ट में बदलाव के विरोध में प्रदर्शन

अब ये लोग पुलिस पर दबाव बनाकर कार्रवाई से बचना चाह रहे हैं, जिसके लिए पुलिस पर गलत आरोप लगा रहे हैं। भले ही पुलिस पीड़ितों के आरोप को गलत ठहरा रही हो, लेकिन वीडियो में जिस तरह दरोगा पीड़ितों को जेल भेजने की धमकी दे रहे हैं। उससे तो यही जाहिर होता है कि पुलिस ही पीड़ितों को डराने की कोशिश कर रही है।

Ad Block is Banned