संग्रहण केन्द्रों पर मिनटों में एकत्रित होगा होगा दूध

संग्रहण केन्द्रों पर मिनटों में एकत्रित होगा होगा दूध

Sharad Shukla | Publish: Sep, 05 2018 05:53:29 PM (IST) Nagaur, Rajasthan, India

जिले में सरस डेयरी मकराना, परबतसर, जायल, गोटन, मेड़ता आदि क्षेत्रों के 100 गांवों में लगेगी मिल्क कलेक्शन यूनिट मशीन, डेढ़ करोड़ से ज्यादा के लागत की मशीन सरकार कराएगी उपलब्ध, प्रस्ताव हुआ मंजूर, बजट भी जारी

नागौर. जिले की सरस डेयरी के संग्रहण केन्द्रों पर दुग्ध इक_ा करने के लिए अब न तो ज्यादा समय लगेगा, और न ही माथापच्ची करनी पड़ेगी। सभी संग्रहण केन्द्रों पर सरस की ओर से मिल्क कलेक्शन यूनियट लगाई जाएगी। इसे जिले के 100 गांवों में लगाया जाएगा। इसके लगने के बाद संग्रहण केन्द्रों में न केवल दुग्ध संग्रहण करने की क्षमता तीन गुनी हो जाएगी, बल्कि संग्रह करने में समय की भी बचत होगी।
जिले में सरस डेयरी के संग्रहण केन्द्रों को अत्याधुनिक संयन्त्रों की सुविधा से सज्जित करने के साथ ही उनकी गुणवत्ता को बेहतर करने के लिए मकराना, जायल, गोटन, रियाबड़ी, डीडवाना, डेगाना, कुचामन, खींवसर आदि क्षेत्र के संग्रहण केन्द्रों पर मिल्क कलेक्शन यूनिट संयन्त्र लगाए जाने की कवायद तेज कर दी गई है। डेयरी प्रशासन के अधिकारियों के अनुसार संग्रहण केन्द्रों में दुग्ध संग्रहण की क्षमता के साथ गुणवत्ता पूर्ण कार्य में इजाफा करने के लिए मिल्क कनेक्शन यूनिट मशीन लगाए जाने का प्रस्ताव भेजा गया था। प्रस्ताव की प्रशासनिक एवं वित्तीय मंजूरी मिल चुकी है। सरकार की ओर से इसे संग्रहण केन्द्रों के लिए नि:शुल्क उपलब्ध कराया जाएगा। ताकी इसे ज्यादातर केन्द्रों पर लगाया जा सके।
एक लाख 50 हजार में आएगी मशीन
डेयरी अधिकारियों के अनुसार मिल्क कलेक्शन यूनिट की एक मशीन पर एक लाख 50 हजार की राशि की लागत आएगी। इस तरह से कुल सौ गांवों के संग्रहण केन्द्रों पर यह मशीन लगाई जाएगी। यानि की एक गांव में एक संग्रहण केन्द्रों पर एक मशीन लगेगी। कुल मशीन लगाने का बजट करीब डेढ़ करोड़ से ज्यादा का बताया जाता है। इस मशीन को लगाए जाने के साथ यथासमय डेयरी की ओर से इसकी जांच की जाती रहेगी। ताकी मशीन सुव्यवस्थित तरीके से काम कर सके।
समय बचत के साथ गुणवत्ता में सुधार
डेयरी अधिकारियों का कहना है कि मिल्क कलेक्शन यूनिट मशीन लगने के साथ ही संग्रहण केन्द्रों पर दुग्ध संग्रह में न केवल घंटो लगने वाला समय कम हो जाएगा, बल्कि सुव्यवस्थित एवं साफ तरीके से दुग्ध भी एकत्रित हो सकेगा। इसके साथ ही क्वालिटी कंट्रोल यूनिट की मशीन भी प्रमुख जगहों पर लगेगी। यह मशीन संग्रहण केन्द्रों से आए दुग्ध की जांच करेगी। यह मशीन महज एक मिनट में दूध की पूरी गुणवत्ता दर्शा देगी। इसका सिस्टम पूरी तरह से कप्यूटराइज्ड पद्धति पर आधारित रहेगा। ताकी गुणवत्ता में शतप्रतिशत सुधार हो सके।
इनका कहना है...
जिले की सरस डेयरी के संग्रहण केन्द्र्रों के 100 गांवों में मिल्क कलेक्शन यूनिट मशीन माह भर में लगा दी जाएगी। इसके लिए बजट भी मिल चुका है। जल्द ही सभी केन्द्रों पर इसे लगाने का काम शुरू कर दिया जाएगा।
किशनलाल भींचर, चेयरमैन, सरस डेयरी, नागौर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned