गाय सभी दलों के लिए मुद्दा यहां बेमौत मर रहीं गायें

गाय सभी दलों के लिए मुद्दा यहां बेमौत मर रहीं गायें

Ajay Khare | Publish: Apr, 17 2019 08:52:51 PM (IST) Narsinghpur, Narsinghpur, Madhya Pradesh, India

नौरादेही अभयारण्य क्षेत्र में स्थित वन ग्राम मलकुही के आदिवासियों की समस्याओं पर किसी का ध्यान नहीं है। यहां के लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं।

नरसिंहपुर। चुनाव के इस घमासान के बीच हर राजनीतिक दल दलित आदिवासियों को अपना बड़ा वोट बैंक मानकर लुभाने में लगे हैं दूसरी ओर नौरादेही अभयारण्य क्षेत्र में स्थित वन ग्राम मलकुही के आदिवासियों की समस्याओं पर किसी का ध्यान नहीं है। यहां के लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। हालात यह हो गए हैं कि लोगों के लिए जहां पीने का पानी कम पड़ रहा है तो मवेशियों के पीने के लिए पानी ही नहीं है। इन परिस्थितियों में यहां गाय बैल प्यास की वजह से बेमौत मर रहे हैं।
जिला मुख्यालय से करीब ३५ किमी दूर स्थित करेली तहसील की ढिल्पीढाना पंचायत के आदिवासी गांव मल$कुही की आबादी करीब ४४० है। इस गांव में करीब एक हजार से ज्यादा गोवंश है। गांव में पीने के पानी के पर्याप्त स्रोत नहीं हैं। गांव में केवल दो हैंडपंप हैं जो हर साल गर्मी शुरू होते ही कम पानी देने लगते हैं और अप्रेल अंत तक इनका पानी पूरी तरह सूख जाता है। पानी का एक अन्य प्राकृतिक स्रोत जंगल के बीच बना पानी का कुंड है जिससे भीषण जल संकट के समय ग्रामीण अपनी प्यास बुझाते हैं। इस समय हैंडपंपों का पानी काफी कम हो गया है जिससे मवेशियों के लिए पेयजल का संकट उत्पन्न हो गया है। ग्रामीणों का कहना है कि इन हालातों में प्यास की वजह से मवेशी दम तोड़ रहे हैं। इस गांव में पहुंचने पर कई जगहों पर गाय बैलों के कंकाल नजर आते हैं। ग्रामीणों ने बताया कि अभी तक करीब १५ गाय बैल प्यास की वजह से मर गए हैं। गांव में कई गाय बैल पानी न मिलने की वजह से मरणासन्न हालत में नजर आते हैं।
--------------
वर्जन
गांव में पेयजल का संकट हो गया है, मवेशियों के पीने के लिए पानी नहीं बचा जिसकी वजह से अभी तक १५ गाय बैल मर गए हैं। वोट मांगने सभी नेता आते हैं पर हमारी समस्याओं से किसी को कोई मतलब नहीं। इस चुनाव में हम नेताओं को सबक सिखाएंगे।
नेतराम ठाकुर, ग्रामीण
------------
वर्जन
हर चुनाव में नेता हमें माई बाप की तरह सम्मान देते हैं पर चुनाव होते ही भूल जाते हैं, हमारे गांव में पेयजल की भीषण समस्या है, लोगों के लिए पीने के पानी का संकट है। मवेशी बेमौत मर रहे हैं कोई ध्यान नहीं दे रहा।
पंछी यादव,ग्रामीण
-----------
वर्जन
मल$कुही गांव में पेयजल संकट और मवेशियों के मरने की जानकारी मिली थी। पशु पालन विभाग की एक टीम को मौके पर जांच के लिए भेजा गया है। ग्रामीणों की समस्याओं का हल निकाला जाएगा।
दीपक सक्सेना, कलेक्टर
-----------------

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned