विधायक की इस चेतावनी पर कलेक्टर और एसपी ने की कार्रवाई

विधायक ने दी चेतावनी, मेहरागांव, मुआरघाट, संसारखेड़ा रेत खदानों का एसपी व कलेक्टर ने किया निरीक्षण

नरसिंहपुर। अवैध रेत खनन को लेकर गाडरवारा क्षेत्र की विधायक सुनीता पटेल की चेतावनी के बाद एक बार फिर पुलिस और प्रशासन सक्रिय हुआ और कलेक्टर व एसपी ने रेत खदानों से दो पोकलेन मशीन जब्त की। इस दौरान पटवारी द्वारा रेत खदान के सीमांकन पर लापरवाही पर निलंबित कर दिया गया। गौरतलब है कि विधायक सुनीता पटेल ने सोमवार को बरमान मेला कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति, सस्कृति मंत्री विजय लक्ष्मी साधौ, सामाजिक न्याय मंत्री लखन घनघोरिया और तेंदूखेड़ा विधायक संजय शर्मा के समक्ष नर्मदा सहित अन्य नदियों से रेत के अवैध खनन को लेकर प्रशासन को धरना देने की चेतावनी दी थी। इसके बाद अगले दिन कलेक्टर और एसपी रेत खदानों पर पहुंचे।

गोटेगांव में एक साल में छह बड़ी कार्रवाई
गौरतलब है कि जिले में गाडरवारा और गोटेगांव क्षेत्र में रेत माफिया बड़े पैमाने पर रेत का अवैध खनन कर रहा है। गोटेगांव क्षेत्र में प्रशासन एक साल में कम से कम 6 बार बड़ी कार्रवाई कर चुका है। कई मशीनें जब्त की गई हैं। इसके बावजूद रेत माफिया नर्मदा नदी का प्राकृतिक स्वरूप बिगाडऩे और नर्मदा का आंचल छलनी करने पर तुला है।

कलेक्टर-एसपी ने तीन रेत खदानों का निरीक्षण किया
कलेक्टर दीपक सक्सेना, पुलिस अधीक्षक डॉ.गुरकरन सिंह ने गाडरवारा के मेहरागांव, मुआरघाट, संसारखेड़ा रेत घाट की खदानों का मंगलवार को औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मुआरघाट से सौरभ राय के भंडारण स्थल से रेत खोदने वाली दो पोकलेन मशीन जब्त कर थाना प्रभारी सांईखेड़ा को सुपुर्द की गईं। भंडारण स्थल पर उक्त मशीन रखने की अनुमति नहीं थी। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर सक्सेना ने राजस्व विभाग एवं खनिज विभाग के अधिकारियों को रेत के अवैध उत्खनन एवं परिवहन पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिये। पुलिस अधीक्षक डॉ. सिंह ने पुलिस अधिकारियों को राजस्व अधिकारियों के साथ रेत खदानों की निगरानी रखने के निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान एसडीएम गाडरवारा राजेश शाह, जिला खनिज अधिकारी रमेश पटैल सहित पटवारी मौजूद थे। वहीं बैरागढ़, तूमड़ा, अजंदा रेत खदानों का भी एसडीएम एवं जिला खनिज अधिकारी ने निरीक्षण किया।

कलेक्टर ने पटवारी को किया निलंबित
क्षेत्र में रेत के अवैध खनन व परिवहन को लेकर पुलिस, राजस्व और खनिज विभाग पर रेत माफिया से मिलीभगत के आरोप लगते रहे हैं। आरोपों की हकीकत मंगलवार को देखने को मिली जब कलेक्टर के मौके पर पहुंचने के बावजूद एक पटवारी सीमांकन के लिए नहीं पहुंचा। मेहरागांव में पटवारी डेविड टिर्की द्वारा मंगलवार को खदान का सीमांकन किया जाना था, किंतु वह रिकॉर्ड लेकर बिना सूचना के मौके से गायब रहा। कार्य में लापरवाही बरते जाने पर कलेक्टर दीपक सक्सेना ने पटवारी डेविड टिर्की को निलंबित करने के निर्देश दिये।

Sanjay Tiwari
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned