Assam Boat Accident: ब्रह्मपुत्र नदी में टकराई दो नावों की 70 सवारियां अभी भी लापता, बचाव दल खोज में जुटा

Assam Boat Accident: असम में बुधवार शाम को ब्रह्मपुत्र नदी में दो नावों के बीच टक्कर हो गई। दोनों नावों में करीब 120 सवारियां थीं। इसमें कई लोगों के डूबने की आशंका है। राहत-बचाव कार्य तेजी से जारी हैं।

गुवाहाटी। Assam Boat Accident: असम में ब्रह्मपुत्र नदी में बुधवार को करीब 100 यात्रियों को ले जा रही नाव के एक अन्य नाव से टकरा जाने के बाद कई लोगों के डूबने की आशंका है। राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) ने बचाव अभियान जारी है।

डूबी नाव जोरहाट के नीमती घाट से माजुली नदी द्वीप की ओर जा रही थी, तभी विपरीत दिशा में जा रही एक अन्य नाव से टकरा गई। ताजा जानकारी के मुताबिक नाव में 50 लोग सवार थे, जिनमें 40 को बचा लिया गया है। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस हादसे पर दुख जताया है।

अभी-अभी आई ताजा जानकारी के मुताबिक एनडीआरएफ के महानिदेशक सत्य एन प्रधान ने कहा कि दोनों नावों में करीब 120 सवारियां थीं और टक्कर के बाद इनमें से काफी लापता हैं। बचाव एवं राहत कार्य तेजी से जारी हैं।

पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा कि असम में हुई नाव दुर्घटना की खबर से दुखी हूं। सवारियों को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। मैं सभी की सुरक्षा और अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूं।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने जोरहाट के नीमती घाट के पास नाव दुर्घटना की पुष्टि की है। उन्होंने ट्वीट के जरिये कहा, "राज्य मंत्री बिमल बोरा को तुरंत दुर्घटना स्थल पर जाने की सलाह दी। मैं भी कल नीमती घाट जाऊंगा।"

अधिकारियों ने बताया कि हादसा बुधवार शाम करीब साढ़े चार बजे हुआ। प्रारंभिक रिपोर्ट के मुताबिक अब तक एक शव बरामद किया जा चुका है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जोरहाट में नाव दुर्घटना पर उनसे बात की, बचाव कार्यों पर एक अपडेट लिया और बचाए गए लोगों की स्थिति पर "उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार हर संभव मदद देने के लिए तैयार है।"

केंद्रीय जहाजरानी, बंदरगाह और जलमार्ग मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने माजुली में नौका दुर्घटना पर गहरी पीड़ा और चिंता व्यक्त की है। उन्होंने असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा से फोन पर बात की और चल रहे बचाव और राहत कार्यों का जायजा लिया।

इसके अलावा, मंत्रालय के अधिकारियों को प्रभावित लोगों की मदद के लिए सभी आवश्यक सहायता प्रदान करने का निर्देश दिया गया है।

केंद्रीय मंत्रिमंडल में आने से पहले सोनोवाल ने 2016 से 2021 तक विधायक के रूप में माजुली निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया था।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned