scriptChampai Soren is famous as Jharkhand Tiger will take oath as CM today know about his political journey | 'झारखंड टाइगर' के नाम से मशहूर हैं चंपई सोरेन, आज लेंगे सीएम पद की शपथ, जानिए इनके सियासी सफर के बारे में | Patrika News

'झारखंड टाइगर' के नाम से मशहूर हैं चंपई सोरेन, आज लेंगे सीएम पद की शपथ, जानिए इनके सियासी सफर के बारे में

locationनई दिल्लीPublished: Feb 02, 2024 10:50:49 am

Submitted by:

Paritosh Shahi

झारखंड के पूर्व सीएम हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी के मामले पर आज सर्वोच्च न्यायलय में सुनवाई होगी। झारखंड में सत्तारूढ़ गठबंधन ने चंपई सोरेन को नया नेता चुना है। आज चंपई सोरेन सीएम पद की शपथ लेंगे। आइये जानते हैं इनके सियासी सफर के बारे में...

champai_cm.jpg

झारखंड में मची सियासी उथलपुथल और पूर्व सीएम हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी के बाद झारखंड में आखिरकार नई सरकार गठन का रास्ता साफ हो गया है। जारी घमासान के बीच जेएमएम-कांग्रेस और अन्य पार्टी के विधायक दल के नेता चंपई सोरन ने गुरुवार देर रात को राज्यपाल सीपी राधा कृष्णन ने मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद राज्यपाल ने विधायक दल के नेता को मुख्यमंत्री पद के लिए मनोनीत कर उन्हें शपथ लेने के लिए आमंत्रित किया। दूसरी ओर आज शुक्रवार को सभी की नजरें सुप्रीम कोर्ट पर भी रहेंगी। कपिल सिब्बल हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी का मामला सुप्रीम कोर्ट लेकर पहुंच गए हैं। सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई हो रही है।

champai_hemant.jpg

 

चंपई सोरेन का आज ही होगा शपथ ग्रहण

हेमंत सोरेन के इस्तीफा के बाद चंपई सोरेन विधायक दल के नेता चुने गए। आज ही उनका शपथ ग्रहण है। चंपई सोरेन को अगले 10 दिन में बहुमत साबित करना होगा। बता दें कि सत्ताधारी विधायकों ने दो बार राज्यपाल सी पी राधाकृष्णन से मुलाकात की थी। वीडियो जारी कर और समर्थन पत्र के जरिए 43 विधायकों के समर्थन के साथ सरकार बनाने का दावा किया गया।

नाम आगे क्यों किया गया

जब झारखंड के सियासी गलियारों में खबर चलने लगी की कल्पना सोरेन ही हेमंत सोरेन की जगह लेंगी तब उनके घर में ही बगावत शुरू हो गयी और उनकी भाभी सीता सोरेन ने अपना राग अलापना शुरू कर दिया कि सीएम की कुर्सी पर पहला हक़ उनका है। यही कारण है कि चंपई सोरेन का तजुर्बा और सोरेन परिवार से उनकी नजदीकी को देखते हुए उनका नाम आगे किया गया। चम्पई को अगला सीएम बना सोरेन परिवार ने अंतिम समय में डैमेज कंट्रोल करने का प्रयास किया है।

जानिए चंपई सोरेन के बारे में

चंपई सोरेन झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के सुप्रीमो शिबू सोरेन के भरोसेमंद सहयोगी रहे हैं। कई मौकों पर पूर्व सीएम हेमंत सोरेन को इनका पैर छूते हुए भी देखा गया है। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि झामुमो में इनकी अहमियत कितनी है।

जानकर बताते हैं कि चाहे मामला सरकार का हो या पार्टी का, अहम विषयों पर हेमंत सोरेन इनसे सलाह-मशवरा जरूर करते रहे हैं। चंपई सोरेन को लोग 'झारखंड टाइगर' के नाम से भी बुलाते हैं। चंपई ने 1991 में पहली बार उपचुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीत दर्ज की थी। वो जीत इसलिए बड़ी थी क्योंकि उन्होंने कद्दावर झामुमो सांसद कृष्णा मार्डी की पत्नी को हराया था।

बाद में 1995 में झामुमो के टिकट पर जीत हासिल की। लेकिन, वर्ष 2000 में बीजेपी के अनंतराम टुडू से चुनाव हार गए थे। इसके बाद वर्ष 2005 से लगातार सरायकेला से विधायक रहे हैं। 2019 में इन्होंने भाजपा के गणेश महली को हराया था।

चंपई सोरेन का जन्म सरायरकेला के जिलिंगगोड़ा में 1956 में सेमल सोरेन और माधव सोरेन के घर हुआ। अपने तीन भाइयों और एक बहन में ये सबसे बड़े हैं। शैक्षणिक योग्यता की बात करें तो ये मैट्रिक पास हैं। इनकी शादी मानको सोरेन से हुई है और इनके चार बेटे और तीन बेटियां हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो