केंद्र सरकार ने बताई मौजूदा बिजली संकट की वजह, अगले पांच दिनों में बढ़ जाएगा कोयले का दैनिक उत्पादन

Coal Crisis: केंद्र सरकार के सूत्रों के मुताबिक कोयले की कमी से मंडरा रहे मौजूदा बिजली संकट के पीछे एक नहीं कई वजहें हैं। इनमें राज्यों की अनदेखी प्रमुख है। हालांकि केंद्र सरकार ने भारी बकाया के बावजूद कोयले की आपूर्ति नहीं रोकी है और अगले पांच दिनों में इसकी दैनिक उत्पादन क्षमता को 19.4 लाख टन से बढ़ाकर 20 लाख टन कर दिया जाएगा।

नई दिल्ली। केंद्र राज्यों और बिजली कंपनियों और रेलवे द्वारा कोयले की मांग को पूरा करने के लिए पूरी तरह तैयार है। सरकार एक सप्ताह के भीतर अपने दैनिक कोयला उत्पादन को 19.4 मिलियन से बढ़ाकर 2 मिलियन टन कर रही है। हालांकि सरकार द्वारा मौजूदा संकट की वजह भी बताई गई हैं। सरकारी सूत्रों ने बताया, "राज्यों और बिजली कंपनियों को कोयले की दैनिक आपूर्ति में कोई कमी नहीं है और हम 5 दिनों का स्टॉक बनाए हुए हैं, एक महीने में स्थिति सामान्य हो जाएगी।"

20 हजार करोड़ बकाया

केंद्र सरकार में उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक केंद्र सरकार अगले पांच दिनों में दैनिक कोयला उत्पादन की क्षमता को 1.94 मिलियन टन से बढ़ाकर 2 मिलियन टन कर देगी। सूत्रों ने यह भी बताया कि कोल इंडिया को बकाया के रूप में राज्यों को लगभग 20,000 करोड़ रुपये का भुगतान करना है।

स्टॉक नहीं उठा रहे राज्य

सूत्रों ने बताया कि राज्य पर्याप्त खनन नहीं कर रहे हैं और रिमाइंडर के बावजूद कोल इंडिया से स्टॉक नहीं उठा रहे हैं, जिसने मौजूदा स्थिति में भी योगदान दिया है। दिल्ली और पंजाब जैसे राज्यों ने मुख्य कोयला संयंत्र बंद कर दिए थे।

मानसून ने भी बढ़ाई परेशानी

उन्होंने आगे कहा कि लंबे समय तक मानसून, विदेशी कोयले की कीमतों में वृद्धि के कारण भी कोयले की कमी हुई। जब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कोयले की कीमतें कम थीं, तो राज्य और बिजली कंपनियां इसे विदेशों से खरीद रही थीं। अब जब इसकी कीमतें अधिक हैं, तो वे घरेलू कोयले की तलाश कर रहे हैं।

कोल इंडिया ने सभी कंपनियों को दिया उत्पादन लक्ष्य, पढि़ए किस कंपनी को मिला कितना लक्ष्य

सीमित स्टॉक की क्षमता

कोयला मंत्रालय जनवरी से कोल इंडिया से स्टॉक लेने के लिए राज्यों को लिख रहा है, लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली। कोल इंडिया एक सीमा तक ही स्टॉक कर सकता है क्योंकि ओवरस्टॉकिंग से कोयले में आग लग सकती है।

कभी नहीं रोकी गई कोयले की आपूर्ति

झारखंड, राजस्थान और पश्चिम बंगाल में अपनी कोयला खदानें हैं, लेकिन वहां बहुत कम या कोई खनन नहीं था। केंद्र राज्यों की सभी मांगों को पूरा कर रहा है। पिछले चार दिनों में कोयले का स्टॉक बढ़ने लगा है। एक माह में स्थिति सामान्य हो जाएगी। दैनिक बिजली और कोयले की आपूर्ति में कोई कमी नहीं। भारी बकाया के बावजूद किसी भी राज्य को कोयले की आपूर्ति कभी नहीं रोकी गई।

क्यों मंडरा रहा है संकट

भारत की स्थापित कुल बिजली उत्पादन क्षमता 386.88GW है, जिसमें कोयला-ईंधन कुल का क्षमता 52.41% या 202.80GW है मौजूदा हालात के कई कारण हैं। कोयले की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में वृद्धि हुई है, जिससे स्थानीय कोयले की मांग बढ़ रही है। बिजली की मांग और इसलिए कोयले की मांग, पिछले कुछ महीनों में तेजी से बढ़ी है। शायद अप्रैल-मई में महामारी की दूसरी लहर से गड़बड़ाने और त्योहारी सीजन से पहले गतिविधि में वृद्धि के कारण रुकी हुई मांग बढ़ गई है। जबकि झारखंड, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के कोयला उत्पादक क्षेत्रों में भारी बारिश ने समस्याओं को और बढ़ा दिया है।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned