scriptKanhaiya Lal Case Strict Law Such UAPA Needed For Take Action Against Terrorists and Other RK Singh | केंद्रीय मंत्री आर के सिंह का बड़ा बयान, सिर काटने वाले आतंकियों के खिलाफ बनेगा UAPA की तरह सख्त कानून! | Patrika News

केंद्रीय मंत्री आर के सिंह का बड़ा बयान, सिर काटने वाले आतंकियों के खिलाफ बनेगा UAPA की तरह सख्त कानून!

राजस्थान के उदयपुर में दर्जी कन्हैया लाल की हत्या ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। इस जघन्य हत्याकांड के बाद केंद्रीय मंत्री आर के सिंह का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने सिर काटने वाले ऐसे आतंकियों के खिलाफ देश में UAPA जैसा सख्त कानून की जरूरत पर जोर दिया।

नई दिल्ली

Published: July 01, 2022 11:44:58 am

राजस्थान के उदयपुर में हुई टेलर कन्हैया लाल की हत्या ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। कन्हैया लाल की हत्या को भी आतंकवाद से ही जोड़ कर देखा जा रहा है। यही वजह है कि इन हत्यारों को आतंकवादी माना जा रहा है। खास बात यह है कि इस हत्याकांड के बाद केंद्रीय मंत्री आर के सिंह ने इन सिर काटने वाले आतंकियों से निपटने के लिए UAPA जैसे सख्त कानून बनाए जाने पर जोर दिया है। उन्होंने कहा कि गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (UAPA ) जैसे विशेष कानून ‘आवश्यक’ हैं, ताकि आतंकवादियों और ‘दूसरों का सिर काटने वालों’ के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा सके।
Kanhaiya Lal Case Strict Law Such UAPA Needed For Take Action Against Terrorists and Other RK Singh
Kanhaiya Lal Case Strict Law Such UAPA Needed For Take Action Against Terrorists and Other RK Singh
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यूएपीए जैसे कानून होने चाहिए और कुछ लोगों को हिरासत में लिया जाना चाहिए, ताकि ‘दूसरों के जीवन की रक्षा’ की जा सके।

पूर्व केंद्रीय गृह सचिव ने कहा कि कभी-कभी आम लोगों यहां तक कि उन पुलिसकर्मियों तक को ढूंढना मुश्किल होता है जो उनके खिलाफ सबूत दे सकते हैं, लेकिन अपनी सुरक्षा के डर से कुछ भी कहने से डरते हैं।

यह भी पढ़ें

कन्हैया लाल के हत्यारों का सिर कलम करने पर 2 लाख का इनाम घोषित करने वाला हिंदू संगठन खुद फंसा



ऐसे में अपराध नियंत्रण अधिनियम और यूएपीए जैसे विशेष कानूनों का होना जरूरी है। ताकि हम आतंकवादियों और उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर सकें जो दूसरों का सिर कलम करते हैं।

क्या है UAPA एक्ट?
UAPA यानी Unlawful Activities (Prevention) Act गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम। इस कानून का मकसद आतंकी गतिविधियों को रोकना है। इसके तहत पुलिस ऐसे आतंकियों, अपराधियों या संदिग्ध लोगों को चिह्नित करती है, जो आतंकी गतिविधियों में शामिल होते हैं, आतंकी गतिविधि के लिए लोगों को तैयार करते हैं या फिर ऐसी गतिविधियों को बढ़ावा देते हैं।

इन मामलों में NIA यानी राष्ट्रीय जांच एजेंसी के पास ज्यादा शक्तियां होती हैं। NIA महानिदेशक को अधिकार होता है कि जांच के दौरान वह संदिग्ध या आरोपी की संपत्ति भी कुर्की-जब्ती करवा सकते हैं।

यूएपीए कानून वर्ष 1967 में लाया गया। तब इसे संविधान के अनुच्छेद 19(1) के तहत दी गई बुनियादी आजादी पर तर्कसंगत सीमाएं लगाने के लिए लाया गया था। 2019 में इस कानून में संशोधन कर इसे दोबारा लागू किया गया।
कानून की धाराओं में कठोर प्रावधान
- UAPA कानून पूरे देश में लागू है
- कोई भी व्यक्तिगत या सामूहिक गैरकानूनी गतिविधि, जिससे देश की सुरक्षा, एकता और अखंडता को खतरा हो, इस कानून के दायरे में है।
- इस कानून के तहत केस में एंटीसिपेटरी बेल यानी अग्रिम जमानत नहीं मिल सकती
- किसी भारतीय या विदेशी के खिलाफ भी इस कानून के तहत केस चलाया जा सकता है
- भारत में रजिस्टर जहाज या विमान में हुए अपराध के मामलों में भी यह कानून लागू होता है।
- मुख्य तौर पर यह कानून आतंकवाद और नक्सलवाद से निपटने के लिए है।
- यह कानून NIA को अधिकार देता है कि वो किसी तरह की आतंकी गतिविधि में शामिल संदिग्ध को आतंकी घोषित कर सके
- इससे पहले सिर्फ समूहों को ही आतंकवादी घोषित किया जा सकता था, लेकिन 2019 में संशोधन के बाद किसी व्यक्ति को भी संदिग्ध आतंकी घोषित किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें

उदयपुर कन्हैयालाल हत्याकांडः सोशल मीडिया पर दर्जी का स्कैच वायरल, जानें सच्चाई

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

कलकत्ता हाईकोर्ट की कड़ी टिप्पणी, कहा - 'पश्चिम बंगाल में बिना पैसे दिए नहीं मिलती सरकारी नौकरी'Jammu-Kashmir News: शोपियां में फिर आतंकी हमला, CRPF के बंकर पर ग्रेनेड अटैकओडिशा के 10 जिलों में बाढ़ जैसे हालात, ODRAF और NDRF की टीमों को किया गया तैनातकैबिनेट विस्तार के बाद पहली बार नीतीश कैबिनेट की बैठक, इन एजेंडों पर लगी मुहरशिमला में सेवाओं की पहली 'गारंटी' देने पहुंचेगी AAP, भगवंत मान और मनीष सिसोदिया कल हिमाचल प्रदेश के दौरे परममता बनर्जी के ट्विटर प्रोफाइल में गायब जवाहर लाल नेहरू की तस्वीर, बरसी कांग्रेसमुंबई पुलिस की बड़ी कार्रवाई, गुजरात के भरूच में पकड़ी ‘नशे’ की फैक्ट्री, 1026 करोड़ के ड्रग्स के साथ 7 गिरफ्तारकेंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह के मानहानि के बयान पर मंत्री जोशी का पलटवार, कहा-दम है तो करें मानहानि
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.