scriptManish Kashyap outcry against Nitish government said Will not leave until broken | Bihar: ‘जब तक तोड़ेंगे नहीं तब तक छोड़ेंगे नहीं’, जेल से निकलते ही मनीष कश्यप का नीतीश सरकार के खिलाफ हल्ला बोल | Patrika News

Bihar: ‘जब तक तोड़ेंगे नहीं तब तक छोड़ेंगे नहीं’, जेल से निकलते ही मनीष कश्यप का नीतीश सरकार के खिलाफ हल्ला बोल

locationनई दिल्लीPublished: Dec 24, 2023 12:18:48 pm

Submitted by:

Prashant Tiwari

Manish Kashyap: जेल से निकलते ही मनीष कश्यप ने नीतीश और तेजस्वी सरकार पर जमकर निशाना साधा।

  Manish Kashyap outcry against Nitish government said Will not leave until broken

तमिलनाडु में बिहारी प्रवासियों को लेकर गई भ्रामक खबर चलाने के आरोप में 9 महीने बाद यू-ट्यूबर मनीष कश्यप पटना हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद शनिवार को बेउर जेल से रिहा हो गए। उनके स्वागत में गेट पर समर्थकों की भीड़ लगी रही। रिहा होने के बाद अपने प्रशंसकों को संबोधित करते हुए मनीष कश्यप ने बिहार सरकार पर जमकर निशाना साधा। इसके साथ ही उन्होंने बिहार की नीतीश सरकार की तुलना कंस के शासन से की।

जब तक तोड़ेंगे नहीं, तब तक छोड़ेंगे नहीं

जेल से निकलने के बाद नीतीश और तेजस्वी सरकार पर निशाना साधते हुए मनीष कश्यप ने कहा कि उनके खिलाफ साजिश की गई थी, जिसकी वजह से उन्हें नौ महीने जेल में रहना पड़ा था। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि जैसे कंस ने साजिश किया तो भगवान कृष्ण को नौ महीने बाद जेल में पैदा होना पड़ा, वैसे ही बिहार में कई कंस हैं, जिन्होंने उनके खिलाफ साजिश की। ये सजा कोर्ट ने नहीं नेताओं ने दी थी, उनके ऊपर एनएसए लगा दिया गया था।

बता दें कि तमिलनाडु में बिहारी मजदूरों की पिटाई का फर्जी वीडियो बनाकर इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित करने के आरोप में मनीष कश्यप ने बेतिया में आत्मसमर्पण किया था। तब से वह जेल में ही थे।

झूठ बोलने वाले नेताओं पर भी लगे NSA

इस दौरान मीडिया से बात करते हुए मनीष कश्यप ने कहा कि चुनाव के वक्त कोई नेता रोजगार तो कोई नेता घर या सड़क बनाने की बात करता है, अगर वह काम नहीं करता है, तो वह भी झूठ है और उनपर वही धारा लगनी चाहिए जो उनके ऊपर लगाई गई। पहाड़ तोड़कर सड़क बनाने वाले दशरत मांझी के परिवार को आज तक उनका हक नहीं मिला।

मांझी जैसे बिहार में करोड़ों घर हैं, जो समस्या में पैदा होते हैं, समस्या में जीते हैं और समस्या के साथ अंतिम सांस लेते हैं। इसी समस्या को जड़ से उखाड़कर फेंकना है। भ्रष्टाचार रूपी पहाड़ कितना भी ऊंचा ना हो जाए, उसे तोड़कर ही दम लेंगे।

ट्रेंडिंग वीडियो