scriptPunjab Election: CM Charanjit Singh Channi`s brother joins BJP | पंजाब चुनावों से पूर्व CM चन्नी के भाई ने थामा भाजपा का दामन | Patrika News

पंजाब चुनावों से पूर्व CM चन्नी के भाई ने थामा भाजपा का दामन

Punjab Election: पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के चचेरे भाई जसविंदर सिंह धालीवाल ने चंडीगढ़ में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की मौजूदगी में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए।

Updated: January 12, 2022 03:39:56 pm

पंजाब के विधानसभा चुनावों से पहले ही कॉंग्रेस को एक बड़ा झटका लगा है। पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के चचेरे भाई जसविंदर सिंह धालीवाल ने भाजपा का दामन थाम लिया है। चंडीगढ़ में केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने मंगलवार को जसविंदर को पार्टी में शामिल कराया। इससे पहले भी कॉंग्रेस के कई बड़े नेता भाजपा का दामन थाम चुके हैं।
channi.jpg
चन्नी के भाई का भाजपा में शामिल होना कैसे कांग्रेस के लिए झटका है?

पंजाब में जसविंदर सिंह धालीवाल का भाजपा में शामिल होना कांग्रेस के लिए एक बड़ा झटका है। कांग्रेस चरणजीत सिंह चन्नी को दलित चेहरा बनाकर दलित वोट को साधने की योजना बना रही थी। अब भाजपा को चरणजीत सिंह चन्नी को काउन्टर करने के लिए उन्हीं का चचेरा भाई मिल गया है।

गौर हो कि पंजाब में 32 फीसदी दलित वोट बैंक हैं जिनमें सिख और हिंदू समुदाय के दलित भी शामिल हैं। कांग्रेस चन्नी के सहारे 32 फीसदी वोट बैंक को साधना चाहती थी, परंतु चन्नी इस समय चारों तरफ से घिर गए हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने बढ़ाई चन्नी की मुश्किलें

दरअसल, पीएम मोदी की सुरक्षा में हुई चूक के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए एक समिति का गठन कर दिया है। इस समिति का नेतृत्व रिटायर्ड जज इंदु मल्होत्रा करेंगी। यदि जांच में पंजाब सरकार की तरफ से किसी भी तरह की लापरवाही सामने आती है तो भाजपा इस मुद्दे को भुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी।

भाजपा मजबूत स्थिति में

बता दें कि भाजपा को अमरिंदर सिंह और सुखदेव ढींढसा का भी साथ मिल गया है। दोनों ही पंजाब में बड़े लोकप्रिय चेहरे हैं जिससे भाजपा पहले से मजबूत स्थिति में दिखाई दे रही है।

यह भी पढ़ें : पीएम मोदी की सुरक्षा के लिए सवा लाख महामृत्युंजय का जप कर रहे ब्राह्मण

अब भाजपा के पास कांग्रेस के खिलाफ दो बड़े चुनावी मुद्दे भी मिल गए हैं। पहला पीएम मोदी की सुरक्षा में हुई चूक और दूसरा दलित मतदाताओं को साधने की रणनीति की काट का मिलना। अब ये देखना दिलचस्प होगा कि पंजाब चुनावों में इसका क्या प्रभाव पड़ता है।

यह भी पढ़ें : SC का बड़ा फैसला, पूर्व जज इंदु मल्होत्रा की अगुवाई में किया चार सदस्यीय कमेटी का गठन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

3 कारण आखिर क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से सीरीज हारा भारतUttar Pradesh Assembly Election 2022 : स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई विधायक सपा में शामिल, अखिलेश बोले-बहुमत से बनाएंगे सरकारParliament Budget session: 31 जनवरी से होगा संसद के बजट सत्र का आगाज, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगानिलंबित एडीजी जीपी सिंह के मोबाइल, पेन ड्राइव और टैब को भेजा जाएगा लैब, खुल सकते हैं कई राजसीएम बड़ा फैसला : स्कूल-होस्टल रहेंगे बंद, घर से ही होगी प्री बोर्ड परीक्षातीसरी लहर का खतरनाक ट्रेंड, डाक्टर्स ने बताए संक्रमण के ये खास लक्षणInd vs SA: चेतेश्वर पुजारा कर बैठे बड़ी भूल, कीगन पीटरसन को दिया जीवनदान; हुए ट्रोलRRB NTPC Result 2019: कल जारी होंगे आरआरबी एनटीपीसी CBT-1 के रिजल्ट, ऐसे कर सकेंगे चेक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.