scriptread timeline on 370 article how jammu kashmir become part of india | Article 370 timeline: क्या है भारत में कश्मीर विलय से लेकर '370' हटने तक की पूरी कहानी, यहां पढ़ें? | Patrika News

Article 370 timeline: क्या है भारत में कश्मीर विलय से लेकर '370' हटने तक की पूरी कहानी, यहां पढ़ें?

locationनई दिल्लीPublished: Dec 12, 2023 08:20:05 am

Explain how kashmir became a part of india: जम्मू कश्मीर का भारत में कब और कैसे विलय हुआ? वहां कब अनुच्छेद 370 लागू किया गया? कैसे जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा हासिल हुआ और अब इसे कैसे हटाया गया? यहां पूरी कहानी टाइमलाइन के जरिए साझा की जा रही है।

article_370_timeline.jpg

Full Timeline on Article 370: भारत को अंग्रेजी सरकार से दमन से मुक्ति मिलने के बाद जम्मू कश्मीर का इसमें विलय होने की कहानी काफी दिलचस्प है। यहां हम आपको 1947 से लेकर 11 दिसंबर 2023 को दिए सुप्रीम कोर्ट के फैसले की पूरी कहानी तारीख दर तारीख बता रहे हैं।

1947: जम्मू और कश्मीर के आखिरी शासक महाराजा हरि सिंह ने भारत में शामिल होने के लिए विलय पत्र पर हस्ताक्षर किए थे।

1950: भारतीय संविधान लागू हुआ। जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद-1 के तहत भारत का एक राज्य घोषित किया गया। जबकि जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद 370 से विशेष दर्जा मिला।

2015: मार्च 2015 में भाजपा ने पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के साथ मिलकर जम्मू-कश्मीर में पहली बार सरकार बनाई।

2018: भाजपा-पीडीपी गठबंधन टूटा। राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने विधानसभा भंग की।

1951: जम्मू-कश्मीर संविधान सभा का गठन किया गया। सभी सदस्य जम्मू-कश्मीर के तत्कालीन पीएम शेख अब्दुल्ला के नेतृत्व वाली नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी से थे।

1952: जम्मू-कश्मीर संविधान सभा में कश्मीर के नेताओं ने केंद्र सरकार के साथ चर्चा की। इसमें केंद्र और राज्य के संबंधों को लेकर 'दिल्ली समझौता' भी हुआ।

1954:तत्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने दिल्ली समझौते में सहमत शर्तों को लागू करने के लिए राष्ट्रपति आदेश जारी किया। राष्ट्रपति के आदेश ने जम्मू और कश्मीर को क्षेत्रीय अखंडता की गारंटी दी और अनुच्छेद 35ए पेश किया जो जम्मू और कश्मीर के स्थायी नागरिकों को विशेष अधिकार प्रदान करता है।

1956: जम्मू-कश्मीर ने साल 1956 में खुद को भारत का अभिन्न अंग घोषित कर दिया और अपना संविधान अपनाया।

1975: इंदिरा गांधी और शेख अब्दुल्ला ने कश्मीर समझौते पर हस्ताक्षर किए। इसमें आर्टिकल 370 और जम्मू-कश्मीर की स्थिति को भारत के अभिन्न अंग के रूप में फिर से पुष्टि की गई।

1980-90: आतंकी गतिविधियों से जूझती घाटी से कश्मीरी पंडितों का पलायन।

2019: सरकार की ओर से पेश जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम, 2019 विधेयक को संसद व राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद जम्मू-कश्मीर को दिया गया विशेष दर्जा हट गया। अधिनियम से जम्मू-कश्मीर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों- 'जम्मू और कश्मीर' और 'लद्दाख' में विभाजित कर दिया गया।

2023: सुप्रीम कोर्ट ने अनुच्छेद 370 को हटाने को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर फैसला सुनाते हुए कहा, जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और 370 को हटाना संवैधानिक तौर पर सही है।

यह भी पढ़ें - क्या है अनुच्छेद 370, हटाने की क्या रही प्रक्रिया, क्या नतीजे सामने आए, कोर्ट में किसने दी चुनौती, यहां पढ़िए सभी सवालों के जवाब

ट्रेंडिंग वीडियो