scriptHimachal congress Crisis: अभी हिमाचल कांग्रेस में बगावत की लिस्ट होगी और लंबी, जानिए बागी विधायक ने क्या-क्या किया दावा | Sukhu Government will fall soon rebel mlas said cm insulted us congress high command should remove him bagi rajendra rana claims | Patrika News

Himachal congress Crisis: अभी हिमाचल कांग्रेस में बगावत की लिस्ट होगी और लंबी, जानिए बागी विधायक ने क्या-क्या किया दावा

locationनई दिल्लीPublished: Mar 02, 2024 04:49:58 pm

Submitted by:

Paritosh Shahi

Himachal Political Crisis: राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग करने वाले और बाद में विधानसभा से सस्पेंड किए गए हिमाचल प्रदेश कांग्रेस के छह विधायकों में से एक राजिंदर राणा ने दावा किया है कि प्रदेश में सरकार कभी भी गिर सकती है।

congress_mla_himachal_pradesh.jpg

हिमाचल प्रदेश में सरकार कभी भी गिर सकती है। बागी विधायकों ने सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू के खिलाफ जिस के तेवर अपनाए हुए हैं उसे देखकर लगता है कि विवाद अभी थमा नहीं है। प्रियंका गांधी, डीके शिवकुमार से लेकर राजीव शुक्ला सरीखे नेता संग्राम को ठीक करने में लगे हैं लेकिन कोई समाधान होता नहीं दिख रहा है। राज्यसभा चुनाव में हुई क्रॉस वोटिंग के बाद से ही प्रदेश में सियासी घमासान जारी है। इसी बीच पार्टी से बागी हुए सुजानपुर के विधायक राजेंद्र राणा ने मुख्यमंत्री सुक्खू पर बड़ा हमला बोलते हुए उन पर विधायकों को जलील करने और झूठ बोलने का आरोप लगाया है। विधायक राजेंद्र राणा ने कांग्रेस आलाकमान पर भी निशाना साधते हुए कहा है कि उनके पास यहां से जुड़ी हर जानकरी थी, लेकिन उन्होंने संज्ञान नहीं लिया। मुख्यमंत्री सुक्खू द्वारा किए जा रहे तमाम दावों को ख़ारिज करते हुए राजेन्द्र राणा ने कहा कि अभी भी कम से कम नौ विधायक उनके संपर्क में हैं और आने वाले दिनों में ये लिस्ट और लम्बी हो सकती है।

 

 

 

प्रदेश में जारी घमासान को लेकर बागी विधायक राजेंद्र राणा ने कहा है कि अगर हाईकमान ने समय रहते कोई ठोस निर्णय लिया होता तो स्थिति ख़राब नहीं होती। समय-समय पर उन्हें हर घटना से अवगत करवाया गया और बताया गया कि प्रदेश सरकार में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है। जनता द्वारा चुने हुए विधायकों को मुख्यमंत्री अपमानित करते हैं, उनकी बात नहीं सुनते। राजेन्द्र राणा ने आगे बताया कि आलाकमान के संज्ञान में यह भी था कि मौजूदा सरकार कांग्रेस की नहीं बल्कि सीएम सुक्खू के मित्रों की सरकार रह गई है।

 

 

मंत्री के पद से इस्तीफा दे चुके विक्रमादित्य सिंह से मिलने पर राणा ने कहा कि मुख्यमंत्री सुक्खू ने पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह के परिवार व उनके समर्थकों के साथ जलालत की है। इस कारण पूरे प्रदेश में आक्रोश है। सीएम ने छह बार सीएम रहे वीरभद्र सिंह की प्रतिमा लगाने के लिए दो गज जमीन नहीं दी जिससे यह साबित हो गया है कि मुख्यमंत्री सुक्खू बहुत छोटे दिल का आदमी है।

राजेंद्र राणा ने आगे दावा किया कि हिमाचल की राजनीति में चल रहा विवाद अभी खत्म नहीं हुआ है। आने वाले समय में यहां बहुत कुछ होने वाला है। प्रदेश के कम से कम 9 कांग्रेस विधायक हमारे संपर्क में हैं, सभी सीएम से परेशान है और उनसे मुक्ति चाहते हैं, जिस वजह से जल्द यह सरकार गिर जाएगी।

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो