तिरुपति बालाजी मंदिर के लिए बनाया गया 81 सदस्यीय जंबो बोर्ड

दुनिया का सबसे अमीर मंदिर है तिरुपति बालाजी मंदिर, 9 हजार किलो और 12 हजार करोड़ से ज्यादा की एफडी है मंदिर के नाम पर

By: सुनील शर्मा

Published: 18 Sep 2021, 10:27 AM IST

नई दिल्ली। आंध्र प्रदेश सरकार ने 'तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम' (टीटीडी) के लिए 81 सदस्यीय जंबो बोर्ड का गठन किया है। यह तिरुमाला में भगवान बालाजी के मंदिर (श्री वेंकटेश्वर मंदिर) का संचालन करेगा। बोर्ड में अध्यक्ष के अलावा 24 नियमित और चार पदेन सदस्यों के साथ-साथ 52 विशेष आमंत्रित नामित किए गए हैं। टीटीडी ट्रस्ट का नया बोर्ड केन्द्रीय कैबिनेट से भी बड़ा है। कैबिनेट में प्रधानमंत्री सहित 78 सदस्य हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम ट्रस्ट के पास 9 हजार किलोग्राम शुद्ध सोना जमा है। दान में मिला 7,235 किलो सोना देश के दो बैंकों में जमा है और करीब 1,934 किलो सोना खजाने में रखा है। सोने के खजाने में भक्तों की ओर से चढ़ाई गई 553 किलो छोटी ज्वैलरी और अन्य आइटम शामिल हैं।

यह भी पढ़ें : आज 13वें दिन नहीं बदले पेट्रोल और डीजल के दाम, जानिए अपने शहर में कीमतें

तिरुपति बालाजी मंदिर में रोज 50 हजार से एक लाख श्रद्धालु आते हैं। सालाना ब्रह्मोत्सव और त्योहारों पर श्रद्धालुओं की संख्या बढ़कर रोजाना 4-5 लाख हो जाता है। भक्त सोना, चांदी, कैश, जमीन के कागजों के अलावा कंपनियों के शेयर भी चढ़ावे में रखते हैं। हुंडी कलेक्शन या दान से मंदिर हर वर्ष 1000 से 1200 करोड़ रुपए की कमाई करता है। मंदिर के 12 हजार करोड़ से ज्यादा रुपए अलग-अलग बैंकों में फिक्स्ड डिपोजिट के रूप में जमा है।

बैंकों में रखे सोने से मंदिर को ब्याज में 100 किलो से ज्यादा सोना हर वर्ष मिलता है। आंध्र प्रदेश सरकार ने जंबो बोर्ड के गठन को लेकर तीन अलग-अलग आदेश जारी किए। इनमें कहा गया कि बोर्ड का गठन टीटीडी के सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक, पर्यावरणीय चरित्र को संरक्षित करने और तीर्थयात्रियों, श्रद्धालुओं व आम जनता के कल्याण के सिद्धांतों का पालन करने के लिए किया गया है।

यह भी पढ़ें : पैन कार्ड से आधार लिंक कराने की समय सीमा दोबारा बढ़ी, अब 31 मार्च 2022 होगी अंतिम तारीख

दान पाने में दुनिया का सबसे अमीर मंदिर
आंध्र प्रदेश का तिरुपति मंदिर भारत का दूसरा सबसे अमीर मंदिर है, जबकि दान प्राप्ति के मामले में यह दुनिया का सबसे अमीर मंदिर है। मंदिर भगवान वेंकटेश्वर को समर्पित है, जिन्हें विष्णु का अवतार माना जाता है। मंदिर समुद्र तल से 2800 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। इसकी मासिक आय 200 से 220 करोड़ रुपए है।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned