VIDEO: आखिर ऐसा क्या हुआ जो इनकी आंख से टपक रहे आंसू, चेहरे पर छाई मुस्कान

VIDEO: आखिर ऐसा क्या हुआ जो इनकी आंख से टपक रहे आंसू, चेहरे पर छाई मुस्कान

By: Subodh Tripathi

Published: 19 Jan 2019, 12:56 PM IST

नीमच. जिस प्रकार से सोयाबीन के दामों में दिन ब दिन बढ़त आ रही है। उससे साफ नजर आ रहा है कि भावांतर की खरीदी पूरी होते ही सोयाबीन के दाम में निश्चित उछाल आएगा। गुरुवार की अपेक्षा शुक्रवार को मंडी में 2 हजार बोरी सोयाबीन की आवक बढ़ी, ऐसे में आवक भरपूर होने के बाद भी दाम में तेजी आने से अन्नदाता के चेहरे खिल उठे। क्योंकि शुक्रवार को ऊंचे में 3740 रुपए क्ंिवटल के दाम पर सोयाबीन नीलाम हुई है।
कृषि उपज मंडी में इन दिनों एक अलग ही नजारा नजर आ रहा है। जहां सोयाबीन मंडी में आए किसानों के चेहरे खिले हुए नजर आ रहे हैं। वहीं लहसुन और प्याज मंडी में आए किसानों के चेहरे मायूस नजर आ रहे हैं। क्योंकि लहसुन प्याज की आवक अंतिम दौर में होने के बावजूद भी दामों में उछाल नहीं आ रहा है। वहीं सोयाबीन का दाम दिन ब दिन तेज होता जा रहा है। ऐसे में जहां एक तरफ सोयाबीन बेचने वाले अन्नदाता के चेहरे खिल रहे हैं, वहीं प्याज बेचने वाले किसानों के आंखों से आंसू निकल रहे हैं।
78 पैसे किलो बिका प्याज
प्याज मंडी में शुक्रवार को करीब 5 हजार कट्टे प्याज की आवक हुई। जो 78 पैसे किलो के दाम से लेकर 6 रुपए किलो तक बिका। इस प्रकार प्याज के दाम 6 रुपए किलो से ऊपर नहीं उठ पाए। वहीं दूसरी ओर लहसुन मंडी में भी आवक तो करीब 10 से 12 हजार बोरी की रही। लेकिन आश्चर्य की बात है कि यहां भी अन्नदाता को अच्छे दाम नहीं मिल रहे हैं। शुक्रवार को अधिकतर ढेर600 से 800 रुपए क्ंिवटल के दाम पर नीलाम हुए। वहीं नीचे में 200 रुपए क्ंिवटल तक व ऊपर में 1500 रुपए ङ्क्षक्वटल तक लहसुन बिकी है। ऐसे में जहां सोयाबीन के काश्तकारों के चेहरे पर हंसी नजर आ रही थी। वहीं प्याज व लहसुन बेचने वाले काश्तकार मायूस नजर आ रहे थे।
सोयाबीन के दाम बढऩे के लग रहे कयास
जानकारों की माने तो शनिवार को भावांतर भुगतान की खरीदी समाप्त होने के बाद निश्चित ही सोयाबीन के दाम में बढ़ोतरी आएगी। क्योंकि इसके बाद निश्चित ही आवक कमजोर होगी। क्योंकि जिले के अधिकतर किसानों ने सोयाबीन भावांतर में बेच दी है। अब चंद किसानों के पास ही सोयाबीन बची है। वहीं कुछ किसानों ने रोक भी ली है। ऐसे में जब आवक कम होगी तो निश्चित ही सोयाबीन के दाम4 हजार से ऊपर रहेंगे। शुक्रवार को सोयाबीन की आवक बढऩे का कारण मंदसौर सहित अन्य मंडी बंद होना भी बताया जा रहा है।
शुक्रवार सुबह सोयाबीन 3740 रुपए क्ंिवटल तक बिक चुकी है। मेरी सोयाबीन 3680 रुपए क्ंिवटल बिकी है। इस बार गत वर्ष की अपेक्षा अच्छे दाम मिले हैं। पिछले साल भावांतर खत्म होने के बाद सोयाबीन 3 700 रुपए हुई थी। लेकिन इस बार पहले ही दाम बढ़ गए हैं। जिससे साफ पता चल रहा है कि भावांतर खत्म होने के बाद सोयाबीन4 हजार का आंकड़ा पार कर लेगी।
-अंतिम पाटीदार, किसान, तुंबा
मेरी सोयाबीन 3651रुपए क्ंिवटल बिकी है। यह पहला साल है जब किसान को सोयाबीन के दाम अच्छे मिल रहे हैं। अब सोयाबीन के दाम बढऩे पर उन किसानों को लाभ मिलेगा, जिन्होंने अभी तक रोक रखी थी।
-शहजाद मंसूरी, किसान, अठाना

Patrika
Subodh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned