कागजों में ये कौन सा प्लान बनाया, जिससे आ रही शहर में बदबू

कागजों में ये कौन सा प्लान बनाया, जिससे आ रही शहर में बदबू

harinath dwivedi | Publish: Sep, 02 2018 11:05:27 PM (IST) Neemuch, Madhya Pradesh, India

-ग्रेडिंग के लिए चिन्हित पाईंटों पर नहीं हुई तार फेंसिंग
-पर्याप्त व्यवस्था नहीं होने से लगा पशुओं का जमावड़ा, आमजन भी परेशान

नीमच. शहर को साफ स्वच्छ और सुंदर बनाने के लिए नगरपालिका द्वारा कागजों में एक से बढ़कर एक बेहतरीन प्लॉन बनाए जाते हैं। प्लॉन देखकर ही ऐसा लगता है जैसे अमल में आते ही शहर की तस्वीर बदल जाएगी। लेकिन जब नपा द्वारा किया जाने वाला नवाचार जमीन पर शुरू होता है तो हालात बद से बद्तर ही नजर आते हैं। यह हम नहीं कह रहे हैं यह खुद हालात बयां कर रहे हैं।
बतादें की चंद दिनों पहले नपा द्वारा शहर में चार स्थानों को चिन्हित कर कचरा ग्रेडिंग करने का प्लान बनाया। ताकि कूड़े कचरे में से प्लास्टिक अलग, भंगार अलग व अन्य गंदगी अलग हो जाए। जिससे प्लास्टिक और भंगार को बेचा जा सके। वहीं गीले व सूखे कचरे से खाद बनाई जा सके। इसी के चलते शहर के मूलचंद्र मार्ग, पुराना हाट मैदान, नीमच सिटी में राठौर पार्क के समीप, रामपुरा दरवाजा कुल चार स्थान चिन्हित किए गए थे। इन स्थानों पर शहर के विभिन्न क्षेत्रों से एकत्रित हुए कचरे को अलग अलग कर कचरा का उपयोग करते हुए कचरा समाप्त करना है। हालांकि इस प्लान के अनुसार दो स्थानों मूलचंद्र मार्ग और हाट मैदान पर काम शुरू हो गया है। वहीं दो स्थानों पर इस प्लान के तहत काम शुरू नहीं हुआ है। जहां शुरू हुआ है वहां के हालात देखकर जहां आम आदमी नाक सुकोड़ लेता है। वहीं स्वछंद विचरण करने वाले पशु कचरे में मुहं मारते हैं। जिससे उनके पेट में पॉलिथीन भी पहुंचती है।
फोटो-एनएम ०२०१
केस १. शहर के मूलंचद्र मार्ग पर चिन्हित स्थान पर नपा द्वारा शेड निर्मित करवा दिया गया है। लेकिन चहुं ओर तार फेंसिंग नहीं होने के कारण कचरा दूर दूर तक फैल रहा है। हालांकि यहां पर कचरे की ग्रेडिंग भी शुरू हो गई है। लेकिन जब शनिवार को जमीनी हालात पर नजर डाली तो हालात आश्चर्य जनक नजर आए। यहां कचरा दूर दूर तक फैला होने के कारण लोगों को आवाजाही में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। यहां आसपास के रहवासी भी जहां मन पड़े वहां कचरा फेंक देते हैं इस कारण समस्या कम होने की जगह बढ़ती ही जा रही है।
फोटो-एनएम ०२०२
केस २. कहने को तो हर दिन स्वछंद विचरण करने वाले पशुओं को पकड़ कर गोशाला छोड़ा जाता है। लेकिन जमीनी हालात खुद बयां कर रहे हैं कि जब पशुओं को पकड़ा जा रहा है तो असंख्य मात्रा में ये पशु कहां से आ रहे हैं जो हर चार कदम पर डेरा डाले नजर आते हैं। ऐसे ही हालात शनिवार को शहर के टेगौर मार्ग, मूलचंद्र मार्ग, नीमच सिटी मार्ग, मैसी शोरूम से बस स्टैंड पहुंच मार्ग पर नजर आए। जहां स्वछंद विचरण करने वाले पशुओं के कारण आवाजाही करने वाले लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था।
फोटो-एनएम ०२०३
केस ३. यूं तो अमानक प्लास्टिक पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा रखा है। लेकिन उसके बावजूद शहर में जगह जगह पड़े कचरे के ढेरों में असंख्य मात्रा में पड़ी पॉलिथीन पशुओं के मुहं का गास बन रही है। ऐसा ही नजारा हाट मैदान स्थित पाईंट पर नजर आया। यहां वैसे तो कचरे की ग्रेडिंग हो रही थी। लेकिन पर्याप्त व्यवस्था के अभाव में पशुओं का जमावड़ा लगा था। पशु पॉलिथीन में बंद सामग्री को खाने के चक्कर में पॉलिथीन में मुहं मार रहे थे। ऐसे में निश्चित ही पॉलिथीन पशुओं के पेट में पहुंच रही होगी। लेकिन जिम्मेदारों का इस ओर बिल्कुल ध्यान नहीं है।

चारों पार्इंटों पर जाली लगाकर पैक किया जाएगा। ताकि कचरा शेड के अंदर ही रहे। जाली लग जाने के बाद पशु का जमावड़ा भी नहीं लगेगा। इन चारों पाईंटों पर ४ सिंतबर से इस कार्य की शुरूआत पूर्ण व्यवस्था के साथ की जाएगी।
-विश्वासचंद्र शर्मा, हेल्थ ऑफिसर, नगरपालिका नीमच

Ad Block is Banned