जामवंत की तपोभूमि रिछावर में विकास को तरस रहे ग्रामवासी

जामवंत की तपोभूमि रिछावर में विकास को तरस रहे ग्रामवासी
गांव में ग्राम विकास के कोई कार्य दिखाई नहीं दे रहे

Ajay Khare | Publish: Mar, 23 2018 03:04:45 PM (IST) ख़बरें सुनें

ग्राम पंचायत रिछावर की व्यवस्थाएं बदहाल

गाडरवारा। तहसील के विकासखंड साईंखेड़ा के अंतर्गत आने वाला ग्राम रिछावर नर्मदा किनारे स्थित है। इस ग्राम के बारे में ऐसी मान्यता है कि प्राचीनकाल में यहां रामभक्त एवं सुग्रीव के सेनापति ऋ क्षराज जामवंत ने तपस्या की थी। जामवंत की तपोभूमि कहे जाने वाले रिछावर गांव में ग्राम विकास के कोई कार्य दिखाई नहीं दे रहे। ग्रामवासियों का कहना है एकओर केंद्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा अनेक योजनाओं को आरंभ कर ग्राम विकास के द्वार पूरी तरह खोल दिए गए हैं। वहीं दूसरी ओर पंचायत की उदासीनता के चलते लोगों को असुविधाओं के बीच रहने को विवश होना पड़ रहा है। ग्राम पंचायत रिछावर के लोगों के बताए अनुसार यहां का श्मशान घाट अधूरा पड़ा है। जिससे लोगों को मृतकों के अंतिम संस्कार करने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसी प्रकार ग्राम का खेल मैदान अधूरा होने से ग्रामीण प्रतिभावान बच्चे खेलकूद में जौहर नहीं दिखा पाते। इससे शासन की शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता में गांव के बच्चों के नाम दर्ज नहीं हो पाते। गत वर्ष जुलाई माह में प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा पौधारोपण का महाभियान चलाया गया था। इसमें भी पौधारोपण के लिहाज से रिछावर गांव बेहद महत्वपूर्ण था। क्योंकि नर्मदा तट पर पौधारोपण नाममि देवी नर्मदे यात्रा के तहत बेहद आवश्यक था। लेकिन इसमें भी मनमानी के आरोप लोगों ने लगाए हैं। ग्रामवासियों के बताए अनुसार यहां पौधा लगाने की योजना में किसी भी ग्रामवासी को पैसे नहीं मिले और पौधे भी देखरेख के अभाव तथा पानी न मिलने के कारण सूख रहे हैं। पंचायत की इसी उदासीनता की अगली कड़ी में जहां देश के प्रधानमंत्री स्वच्छ भारत अभियान के तहत शौचालयों पर जोर दे रहे हैं। इसमें भी स्कूलों में शौचालयों पर खास जोर है। लेकिन इस गांव में स्वच्छ भारत मिशन की भी खुलेआम धज्जियां उड़ाते हुए। बच्चों के स्कूल के शौचालय से भी पंचायत उदासीन बनी हुई है। स्कूल का शौचालय खुला पड़ा है। जबकि इस बारे में स्कूल के शिक्षक कई बार सरपंच सचिव से अनुरोध कर चुके हैं। लेकिन इसके बाद भी कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। परिणाम स्वरूप बच्चों को खुले में निस्तार हेतु जाना पड़ता है। ग्राम पंचायत रिछावर के अनेक ग्रामवासियों ने जनप्रतिनिधियों, उच्चाधिकारियों गांव की सुध लेकर रुके पड़े विकास कार्य तत्काल आरंभ कराने की मांग की है। ताकि वह भी विकास की मुख्यधारा में शामिल होकर सुविधाओं का लाभ ले सकें।
इनका कहना
ग्राम में विकास कार्य किए जा रहे हैं। श्मशानघाट की टीनें आ गई हैं, दूसरे काम भी जल्द से जल्द पूरे कराए जा रहे हैं।
हेमवतीबाई मेहरा, सरपंच ग्राम पंचायत रिछावर

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned