शिवपाल यादव को बड़ा झटका, मोर्चे से नहीं जुड़ रहे 'उपेक्षित' नेता

शिवपाल यादव को बड़ा झटका, मोर्चे से नहीं जुड़ रहे 'उपेक्षित' नेता

Rahul Chauhan | Publish: Sep, 08 2018 02:38:23 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम व मौलाना अंसार रजा ने भी शिवपाल यादव के साथ मंच साझा किया था।

मेरठ। पारिवारिक विवाद के चलते पूर्व मंत्री शिवपाल यादव द्वारा अलग समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने को लेकर सियासी गलियारों में इन दिनों खूब चर्चा है। इसे उत्तर प्रदेश की राजनीति में नए विकल्प के तौर पर देखा जा रहा है। अभी 31 अगस्त को मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना कस्बे में हुए सम्मेलन में शिवपाल यादव की मौजूदगी में अच्छी भीड़ उमड़ी थी।

यह भी पढ़ें-लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा को तगड़ा झटका, इन संगठनों को कांग्रेस ने दिया समर्थन

साथ ही कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम व मौलाना अंसार रजा ने भी उनके साथ मंच साझा किया था। इस रैली को राष्ट्रीय एकता सम्मेलन नाम दिया गया था। लेकिन मोर्चे में दूसरे दलों के 'उपेक्षित' नेताओं के शामिल नहीं होने को लेकर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। कयास लगाए जा रहे थे कि सपा समेत दूसरे दलों के उपेक्षित नेता इस नई पार्टी को ठिकाना बना सकते हैं, लेकिन एक हफ्ते बाद भी कोई बड़ा चेहरा मोर्चे का हिस्सा नहीं बना है।

यह भी पढ़ें-सपा नेता ने भाजपा चेयरमैन पर लगाए गंभीर आरोप, दी आत्मदाह की चेतावनी, मचा हड़कंप

इस सवाल के जवाब में सेक्युलर मोर्चे के वेस्ट यूपी प्रभारी डॉक्टर मरबूग त्यागी का कहना है कि मोर्चे की ताकत का पता चंद दिनों में चल जाएगा। हम खास रणनीति के तहत अभी दूसरे दलों के लोगों को शामिल नहीं कर रहे हैं। जल्द सामूहिक तौर पर नामवर लोगों को जोड़कर मोर्चे का कुनबा बढ़ाएंगे। उन्होंने कहा कि मोर्चा 2019 के चुनाव में बड़ी ताकत बनकर उभरेगा। मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना में हुए सम्मेलन में जुटी भीड़ जनता के समर्थन का सबूत है। वहीं, समाजवादी पार्टी के प्रदेश सचिव राजपाल सिंह का कहना है कि वेस्ट यूपी की जनता सपा के साथ है।

यह भी देखें- Shivpal Yadav के सेक्युलर मोर्चा के साथ आए मुलायम सिंह यादव!

सपा से कहीं कोई जाने वाला नहीं है। गौरतलब है कि पिछले महीने 29 अगस्त को शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा गठित करने का ऐलान किया था। शिवपाल ने इस दौरान सपा समेत दूसरे दलों के उपेक्षित नेताओं को मोर्चे में आने का खुला निमंत्रण भी दिया था। शिवपाल के इस कदम के बाद कयास लगाए जा रहे थे कि वेस्ट यूपी में सपा समेत दूसरे दलों के कई जनाधार वाले लोग मोर्चे का हिस्सा बनेंगे। लेकिन एक हफ्ते बाद न तो किसी दल का कोई नेता मोर्चे से जुड़ा और न ही वेस्ट यूपी में मोर्चे के प्रचार के लिए कोई बैनर, होर्डिंग, पोस्टर, फ्लैक्स का वार शुरू हो गया है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned