Karwa Chauth 2019: जानिए, छलनी से क्यों देखा जाता है चांद और पति का चेहरा

Karwa Chauth 2019: जानिए, छलनी से क्यों देखा जाता है चांद और पति का चेहरा

Rahul Chauhan | Publish: Oct, 16 2019 08:23:05 PM (IST) | Updated: Oct, 16 2019 08:24:06 PM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

Highlights:

-आपने हमेशा देखा होगा कि Karva Chauth पर महिलाएं पूजा की थाली में छलनी भी रखती है

-जिसमें वह दीपक रखकर चांद व पति का चेहरा निहारती हैं

-ऐसा देखकर आपने कई बार जरूर सोचा होगा कि आखिर ऐसा क्यों किया जाता है

नोएडा। Karva Chauth 17 October 2019 को है। वहीं आपने हमेशा देखा होगा कि करवा चौथ (Karva Chauth) पर महिलाएं पूजा की थाली में छलनी भी रखती है। जिसमें वह दीपक रखकर चांद व पति का चेहरा निहारती हैं। ऐसा देखकर आपने कई बार जरूर सोचा होगा कि आखिर ऐसा क्यों किया जाता है। इसके पीछे कारण क्या है।

यह भी पढ़ें : अनोखी बीमारी के शिकार बच्चे ने लिया जन्म, डॉक्टर बोले- कभी नहीं देखा ऐसा Patient, देखें वीडियो

लाल मंदिर के पुजारी पंडित विनोद शास्त्री बताते हैं कि चंद्रमा को भगवान ब्रह्मा का रूप माना जाता है। जैसा कि सभी जानते हैं कि चांद को लंबी आयु का वरदान भी मिला हुआ है। साथ ही चांद में सुंदरता, प्रेम, प्रसिद्धि, शीतलता और लंबी आयु जैसे गुण पाए जाते हैं। माना जाता है कि सभी महिलाएं इसलिए ही चांद को देखकर ये कामना करती हैं कि चांद में पाए जाने वाले सभी गुण उनके पति में भी आ जाएं।

यह भी पढ़ें : रात को नई नवेली दुल्‍हन ने सबको खिलाया कढ़ी-चावल, सुबह खुली आंख तो बेडरूम की थी यह हालत

पंडित बताते हैं कि छलनी को लेकर एक और पौराणिक कथा बड़ी प्रसिद्ध है। जिसके मुताबिक एक साहूकार के सात लड़के और एक बेटी थी। बेटी ने पति की लंबी उम्र के लिए करवा चौथ का व्रत रखा था। वहीं सातों भाईयों ने अपनी बहन को रात को भोजन करने के लिए आंमत्रित किया। लेकिन बहन ने मना कर दिया और कहा कि जब चांद निकलेगा तभी अर्घ्‍य देकर वह भोजन करेगी।

यह भी पढ़ें: Aqua Line Metro में इस तारीख को होगी बॉलीवुड फिल्म की शूटिंग, बड़े अभिनेता और अभिनेत्री करेंगे डांस

वहीं सातों भाईयों ने बहन को खाना खिलाने के लिए एक योजना बनाई। जिसमें उन्होंने दूर कहीं एक दिया रख दियाा और बहन के पास छलनी ले जाकर उसे प्रकाश दिखाते हुए कहा कि चांद निकल आया है। अर्घ्‍य देकर अब तुम भोजन कर लो। जिससे इस छल से उसका व्रत भंग हो गया और उसका पति बहुत बीमार हुआ। माना जाता है कि तभी से छलनी से चांद देखने की प्रथा शुरू हुई ताकि फिर किसी शादीशुदा महिला के साथ दोबारा ऐसा छल न हो।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned