एक और अनामिका शुक्ला: फर्जी डिग्री पर 10 साल से कर रही थी नौकरी, अब तक ले चुकी 40 लाख की सैलरी

Highlights

-बीटीसी की डिग्री भी फर्जी

-विभाग ने बर्खास्त कर दर्ज कराई एफ़आईआर

-फर्जी शिक्षिका से की जाएगी 40 लाख 70 हजार की रिकवरी

By: Rahul Chauhan

Updated: 15 Jul 2020, 10:36 AM IST

नोएडा। उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग में हुए फर्जीवाड़े की परतें अब खुलने लगी हैं। गौतमबुद्ध नगर के शिक्षा विभाग अनामिका शुक्ला की तरह के एक शिक्षिका मिलने से विभाग के कार्यप्रणाली पर गंभीर सवाल उठने लगे हैं। दूसरे के नाम पर शिक्षिका बन सरकार को करोड़ों का चूना लगाने वाली अनामिका शुक्ला का नाम अभी लोग भूल भी नहीं पाए थे कि गौतमबुद्ध नगर में मनीषा मथुरिया नाम की एक और शिक्षिका सामने आई है। आरोप है कि मनीषा मथुरिया बीते 10 वर्षों से शिक्षिका के तौर पर काम कर रही है। विभाग ने उसे बर्खास्त कर उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। उधर, शिक्षिका फरार बताई जा रही है।

यह भी पढ़ें: दोस्तों ने टुकड़े-टुकड़े कर छात्र का शव बोरवेल में डाला, 6 दिन से खुदाई करा रही पुलिस

दरअसल, गौतमबुद्ध नगर के बेसिक शिक्षा अधिकारी धीरेंद्र कुमार ने बताया कि दूसरे की बीएड की डिग्री पर नौकरी करने वाली शिक्षिका मनीषा मथुरिया का फर्जीवाड़ा सामने आया है। इस मामले के उजागर होने के बाद से ही शिक्षिका फरार है। मनीषा मथुरिया बीते 10 वर्ष से फर्जी डिग्री पर नौकरी कर रही थी। शिक्षिका की तैनाती ग्रेटर नोएडा के नवादा गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय में थी। खंड शिक्षा अधिकारी हेमंत सिंह ने शिक्षिका के खिलाफ धोखाधड़ी की धाराओं में कोतवाली बीटा-2 में एफ़आईआर दर्ज कराई है। बीएसए ने बताया कि शिक्षिका को बर्खास्त कर उसके द्वारा लिए गए वेतन की रिकवरी के आदेश दिए हैं।

जांच में हुआ खुलासा

बीएसए धीरेंद्र कुमार ने बताया कि अनामिका शुक्ला फ्रॉड केस के उजागर होने के बाद शासन ने पूरे राज्य में शिक्षकों के दस्तावेज़ों की जांच के आदेश दिए थे। उसी आदेश के क्रम में बीते दिनों मिली शिकायत के आधार पर जांच कराई गई। जांच में पाया गया कि जिस अनुक्रमांक को मनीषा मथुरिया के मार्कशीट में दर्ज किया गया है, वह अनुक्रमांक मनीषा मौर्या के नाम पर दर्ज है, जो कासगंज के वीके जैन कॉलेज की है। जांच में यह भी पाया गया कि ग्रेटर नोएडा के नवादा गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय में नौकरी करने वाली मनीषा मथुरिया की डिग्री फर्जी है और वह मनीषा मौर्या की डिग्री पर नौकरी कर रही है। उन्होंने बताया कि मूल रूप से अलीगढ़ के बसौली गांव की रहने वाली मनीषा मथुरिया ने आंबेडकर विवि आगरा से वर्ष-2005 में जारी बीएड की डिग्री के आधार पर शिक्षिका की नौकरी हासिल की थी।

यह भी पढ़ेंं: सफर हुआ आसान: 298 करोड की लागत से मुजफ्फरनगर-बडौत मार्ग बनकर तैयार

2008 में ली थी फर्जी डिग्री

बीएसए ने बताया कि शिक्षिका मनीषा मथुरिया की पहली तैनाती वर्ष-2010 में अलीगढ़ के ऊंटगिरी ब्लॉक क्षेत्र के गांव धनीपुर प्राथमिक विद्यालय में हुई थी। वर्ष-2012 में उसका तबादला गौतमबुद्ध नगर के लिए कर दिया गया। वह ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी, बिसरख और नवादा प्राथमिक विद्यालय में तैनात रही। उन्होंने बताया कि फर्जीवाड़ा उजागर होने के बाद उसके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। नियमानुसार उससे लगभग 40 लाख 70 हजार रुपये की रिकवरी की जानी है। इस बीच, पुलिस का कहना है कि इस मामले में पहली शिकायत दनकौर डायट के प्राचार्य ने की थी। उन्होंने सभी शिक्षकों की डिग्री की जांच करने का अनुरोध किया था। जांच में पाया गया कि वर्ष-2008 में मनीषा ने बीटीसी की डिग्री ली थी, वह भी फर्जी थी।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned