पत्रिका एक्सक्लूसिव: जेल से छूटने के बाद भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर उर्फ रावण की तबीयत हुई खराब, किसी को नहीं दिया जा रहा मिलने

पत्रिका एक्सक्लूसिव: जेल से छूटने के बाद भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर उर्फ रावण की तबीयत हुई खराब, किसी को नहीं दिया जा रहा मिलने

Rahul Chauhan | Publish: Sep, 16 2018 03:42:18 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 03:51:55 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

शुक्रवार को आधी रात के बाद सहारनपुर जेल से भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण को किया गया था रिहा।

शिवमणी त्यागी
सहारनपुर। भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण की जेल से छूटने के बाद रविवार को तबीयत खराब हो गई है। भीम आर्मी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय रतन ने पुष्टि करते हुए बताया कि भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण को चक्कर आ गए हैं। दरअसल रावण से बसपा सुप्रीमो की प्रेस कांफ्रेंस के बारे में बात करने के लिए जब पत्रिका रिपोर्टर ने भीम आर्मी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय रतन को फोन किया और उनसे कहा कि चंद्रशेखर उर्फ रावण से बात करा दीजिए तो विनय रतन ने कहा कि अभी बात नहीं हो पाएगी रावण की तबीयत खराब है। उन्हें चक्कर आ गए हैं। चक्कर का कारण पूछने पर विनय रतन ने बताया कि ऐसा एसिडिटी की वजह से हुआ है। उन्होंने बताया कि तबीयत खराब होने के बाद फिलहाल किसी को रावण से नहीं मिलने दिया जा रहा है।

यह भी पढ़ें-भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर द्वारा 'बुआ' कहने पर भड़कीं बसपा सुप्रीमो मायावती, कह दी ये बड़ी बात

मायावती ने साधा चंद्रशेखर पर निशाना
आपको बता दे कि जेल से निकलने के बाद भीम आर्मी संस्थापक रावण ने बसपा सुप्रीमो मायावती को 'बुआ' कहा था। इस पर अब मायवती की तीखी प्रतिक्रिया सामने आई है। मीडिया को संबोधित करते हुए मायावती ने भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर पर निशाना साधा। प्रेस कांफ्रेंस के दौरान मायावती ने कहा कि राजनीतिक स्वार्थ के लिए लोग मुझसे रिश्ता बनाने की कोशिश कर रहे हैं। बसपा मुखिया ने दो टूक कहा कि उनका किसी के साथ भाई-बहन या बुआ-भतीजे का रिश्ता नहीं है। सहारनपुर हिंसा में आरोपी चंद्रशेखर मुझसे रिश्ता दिखा रहा है, जबकि मेरा सिर्फ गरीबों से रिश्ता है। ऐसे किसी व्यक्ति से मेरा रिश्ता नहीं है, जो समाज में ऐसा काम करते हैं।

यह भी पढ़ें-भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर की रिहाई के अगले दिन इस जिले में सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने कर दिया ये ऐलान, पुलिस के फूले हाथ-पांव

समाज में ऐसे बहुत से संगठन बनते चले आ रहे हैं जो अपना धंधा चलाते हैं। उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर आज़ाद उर्फ रावण से मेरा कोई रिश्ता नहीं है। उन्होंने कहा कि वह करोड़ों लोगों की लड़ाई लड़ रही हैं। रावण को अलग से संगठन बनाने की ज़रूरत क्यों है? वो बसपा के झंडे के नीचे आकर लड़ाई लड़ें। साथ ही बसपा सुप्रीमो ने गठबंधन के सवाल पर कहा कि बसपा कहीं भी किसी भी चुनाव में गठबंधन के लिए तैयार है, लेकिन हमें सीटों में सम्मानजनक हिस्सा चाहिए। ऐसा न होने पर बसपा अकेले चुनाव लड़ेगी। आपको बात दे कि भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में स्थित छुटमलपुर गांव का रहने वाला है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned