गुरुग्राम के रेयान स्कूल में हुर्इ बच्चे की हत्या के बाद नोएडा के रेयान पर पेरेंट्स का हंगामा, देखें वीडियो

हंगामा बढ़ता देख पुलिस आैर दमकल वाहन नोएडा स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल पहुंचे

By: lokesh verma

Published: 11 Sep 2017, 12:29 PM IST

नोएडा. गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुर्इ बच्चे की मौत के बाद प्राइवेट स्कूलों अपने बच्चों को पढ़ाने वाले पेरेंट्स की चिंता बढ़ गर्इ है। यही कारण है कि सोमवार को स्कूल खुलने के बाद नोएडा स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल पर सुबह होते ही बच्चों के पेरेंट्स पहुंचे। यहां पेरेंट्स ने बच्चों की सुरक्षा व्यवस्था जांच के साथ ही स्कूल प्रधानाचार्य से मिलने की बात कही, लेकिन प्रधानाचार्य के नहीं मिलने पर जमा हुए करीब डेढ़ सौ पेरेंट्स ने हंगामा शुरू कर दिया।

बता दें कि नोएडा स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल के बाहर अपने बच्चों की सुरक्षा को लेकर चिंतित पेरेंट्स की भीड़ सोमवार सुबह से ही जमा हो गर्इ थी। इस दौरान सभी पेरेंट्स ने एक सुर में स्कूल की प्रधानाचार्या से मिलने की जिद की, लेकिन वहीं स्कूल का समय होने की वजह से प्रधानाचार्या ने मिलने से इनकार कर दिया। इससे गुस्साएे पेरेंट्स ने हंगामा शुरू कर दिया। पेरेंट्स ने आरोप लगाया कि सभी बड़े स्कूल पढ़ार्इ से लेकर सुरक्षा के नाम पर लाखों रुपये वसूलते है, लेकिन जमीनी स्‍तर पर कोई काम नहीं किया जाता है। इधर हंगामे की सूचना मिलते ही कुछ ही देर में मौके पर पुलिस पीसीआर समेत दमकल की एक गाड़ी पहुंच गई। हंगामा बढ़ता देख स्‍कूल प्रबंधन ने पेरेंट्स को बैठक का आश्‍वासन देते हुए शांत कराया।

स्कूल प्रधानाचार्या ने बैठक करने का दिया समय

वहीं हंगामा बढ़ता देख रेयान स्कूल की प्रधानाचार्या ने स्कूल की छुट्टी के बाद दो बजे सभी पेरेंट्स के साथ बैठक करने का आश्वासन दिया है। इसमें उन्होंने भरोसा दिलाया है कि वह सभी के बच्चों की सुरक्षा की पुष्टि‍ करेंगी। साथ ही सभी पेरेंट्स के सवालों के जवाब भी दिए जाएंगे। इसके साथ ही सभी पेरेंट्स ने दो बजे बैठक में आने की सहमति‍ जतार्इ है। इसके बाद सभी स्कूल पेरेंट्स मौके से वापस लौट गए।

स्कूल के कर्मचारियों के पास नहीं है स्कूल का कोई आई कार्ड

अभिवावकों का आरोप है कि बच्चों की सुरक्षा के नाम पर न तो स्कूल के सीसीटीवी कैमरे काम कर रहे हैं और न ही प्रर्याप्त सिक्योरटी गार्ड हैं। इतना ही नहीं स्कूल के कर्मचारियों के पास स्कूल की कोई आईडी भी नहीं हैं, जिससे हम अपने बच्चों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं। इसलिए हम सभी अभिवावक स्कूल मेनेजमेंट से बात करने आए हैं। घंटों इंतजार करने के बाद पांच लोगों का डेलिगेशन बुलाया गया है।

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned