शाहबेरी बिल्डिंग हादसा: NDRF के इतने लोगों ने लगातार 66 घंटे तक चलाया सबसे लंबा ऑपरेशन

एसडीआरएफ के 100 से ज्यादा लोग मौके पर रहेंगे तैनात।बदबू आैर संक्रमण की वजह से किया गया छिड़काव।

By:

Published: 20 Jul 2018, 08:11 PM IST

ग्रेटर नोएडा। शाहबेरी में 2 इमारत गिरने की सूचना मिलते ही 17 तारीख की रात को 10:30 बजे से 20 जुलाई को शाम 4:30 बजे तक लगभग 66 घंटे एनडीआरएफ के अधिकारी एवं जवानों ने लगातार इस हादसे में फंसे लोगों को निकालने के लिए विपरीत परिस्थितियों में अपनी जान को जोखिम में डालकर मलबे में दबे लोगों को निकालने के लिए अपना पूर्ण योगदान दिया। टीम को आशा थी कि कोई जीवित व्यक्ति निकले। लेकिन जानकारों के मुताबिक इस हादसे में जिस तरह से बिल्डिंग पैन केक में ध्वस्त हुई थी, ऐसी परिस्थितियों में जीवित व्यक्ति मिलना संभव नहीं होता। इसके बावजूद भी टीम ने रात-दिन लगातार कठिन परिश्रम करते हुए रेस्क्यू ऑपरेशन को पूरा किया।

यह भी पढ़ें-मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर सपा नेता आजम खान बोले, इससे निकलेगा ये हल

इस हादसे में 6 पुरुष, 2 महिला एवं एक डेढ़ साल की बच्ची को मिलाकर कुल 9 शव निकाले गए। इस ऑपरेशन में एनडीआरएफ के 200 से भी ज्यादा लोगों ने राहत एवं बचाव कार्य किया। इस दौरान 3 डॉक्टर सहित 9 अधिकारी, 21 अधीनस्थ अधिकारी, 170 जवान, 8 डॉग, 16 गाड़ियां एवं लगभग 100 सीएसएसआर (Collapse structure search & rescue) के उपकरणों द्वारा राहत एवं बचाव का कार्य किया गया। वर्ष 2013 में आई उत्तराखंड के केदारनाथ आपदा व नेपाल का विनाशकारी भूकंप के बाद यह 8वीं बटालियन गाजियाबाद द्वारा चलाया सबसे लंबा ऑपरेशन था जो कि लगातार 66 घंटे तक चला।

यह भी पढ़ें-बड़ी खबर: एक्शन मोड में आया यह आईपीएस, एक साथ कर दिए 286 पुलिसकर्मियों के ट्रांसफर

एसडीआरएफ के सौ से ज्यादा लोग मौके पर रहेंगे तैनात
वहीं जानकारी के अनुसार शुक्रवार शाम को एनडीआरएफ की टीम मौके से चली गर्इ। लेकिन मौके पर एसडीआरएफ की सौ लोगों की टीम मौके पर तैनात रही। एसडीआरएफ आैर पुलिस की टीमें मौके पर तैनात रही। ये टीमें अभी भी मौके पर आॅपरेशन चलाकर मलबे को हटा रही है। अधिकारियों के अनुसार एसडीआरएफ की टीम मौके से पूरी जांच के बाद ही जाएगी।

यह भी देखें-दर्द की सिसकियां नहीं सुनते, धरती के भगवान

बदबू आैर संक्रमण की वजह से किया गया छिड़काव
घटना के तीन दिन बाद शुक्रवार को रेस्क्यू आॅपरेशन के दौरान बदबू फैलने लगी है। इसको लेकर टीमाें आैर तेज काम शुरू किया। जिसके बाद एनडीआरएफ को एक कटा हुआ हाथ मिला। अधिकारियों ने दावा किया यह बदबू कटे हुए हाथ की वजह से आ रही थी। बाकी मलबे में कोर्इ शव नहीं दबा हुआ है। नौ शव निकाले जा चुके है। वहीं बदबू आैर संक्रमण फैलने से बचाव के लिए छिड़काव कराया गया। सीएमओ डॉक्टर अनुराग भॉर्गव ने बताया कि मौके पर एंटी इंफेक्शन स्प्रे का छिड़काव कराया जा रहा है। इससे संक्रमण फैलने का खतरा कम हो जाएगा। वहीं मौके पर एसडीआरएफ आैर पुलिस की टीम बाकी बचे मलबे को हटाने के साथ ही जांच में जुटी है।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned