SC-SC एक्ट के विरोध में शेर सिंह राणा की पद यात्रा शुरू, भीम आर्मी कार्यकर्ताओं से टकराव की आशंका

SC-SC एक्ट के विरोध में शेर सिंह राणा की पद यात्रा शुरू, भीम आर्मी कार्यकर्ताओं से टकराव की आशंका

Rahul Chauhan | Publish: Sep, 16 2018 08:48:35 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

एससी/एसटी एक्ट में केन्द्र सरकार द्वारा किए गए संशोधन के विरोध में सवर्ण समाज की ओर से सहारनपुर से आगरा तक इस पद यात्रा का ऐलान किया गया है।

सहारनपुर। यूपी के सहारनपुर में एससी/एसटी एक्ट के विरोध में शाकंभरी देवी से रविवार को शेर सिंह राणा के नेतृत्व में शुरू होने वाली राष्ट्रवादी समान अधिकार पद यात्रा प्रशासन की अनुमति नहीं मिलने के बावजूद दोपहर बारह बजे आदिशक्ति मां शाकंभरी देवी के दरबार में यज्ञ करके शुरू की गई। प्रशासन ने ऐन वक्त पर इस पदयात्रा को अनुमति देने से इंकार कर दिया था। जिसके बाद दिन भर पद यात्रा से जुड़े समर्थक अधिकारियों पर अनुमति के लिए दबाव बनाते रहे। वहीं रविवार को प्रशासन द्वारा मौखिक अनुमति दिए जाने के बाद पदयात्रा को शुरू कर दिया गया। आगरा तक जाने वाली यह पद यात्रा सहारनपुर के करीब डेढ़ सौ गांवों से गुजरनी है, जहां भीम आर्मी कार्यकर्ताओं से टकराव की आशंका ने पुलिस-प्रशासन के हाथ-पांव फुला रखे हैं। इस बीच राणा ने शनिवार को दो टूक कहा था कि पद यात्रा निर्धारित समय पर शुरू होकर रहेगी।

यह भी पढ़ें-भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर की जेल से रिहाई पर डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा का बड़ा बयान, मची हलचल

एससी/एसटी एक्ट में केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा किए गए संशोधन के विरोध में सवर्ण समाज की ओर से सहारनपुर से आगरा तक राष्ट्रवादी समान अधिकार पद यात्रा का ऐलान किया गया था। यात्रा 16 सितंबर से शाकंभरी देवी मंदिर से शुरू होनी प्रस्तावित थी। पद यात्रा का नेतृत्व सांसद फूलन देवी की हत्या में जेल गए शेर सिंह राणा कर रहे हैं। प्रशासन को पहले ही इसकी सूचना दे दी गई थी। यह पद यात्रा सहारनपुर के करीब 150 गांवों से होते हुए पड़ोसी जिले मुजफ्फरनगर के भी 70 गांवों में घूमेगी। हर जिले में दो संयोजक बनाकर पद यात्रा की जिम्मेदारी तय की गई है।

यह भी पढ़ें-भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर द्वारा 'बुआ' कहने पर भड़कीं बसपा सुप्रीमो मायावती, कह दी ये बड़ी बात

पद यात्रा में हजारों लोगों के शामिल होने की संभावना है। इसी बीच भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर उर्फ रावण की रिहाई के बाद प्रशासन पहले से एहतियात बरत रहा है। एससी/एसटी एक्ट के संशोधन के विरोध में होने वाली पद यात्रा के दौरान गांवों में टकराव की आशंका ने पुलिस-प्रशासन की नींद उड़ा रखी है। इसी बीच शुक्रवार को बेहट के उप जिलाधिकारी शिव नारायण ने अनुमति संबंधी प्रार्थना पत्र निरस्त कर दिया। रविवार को शुरू हुई पदयात्रा को लेकर टकराव के चलते मौके पर बेहट कोतवाली पुलिस, मिर्जापुर थाना पुलिस, बिहारीगढ़ थाना पुलिस के साथ-साथ एडीएम (प्रशासन), एसपी देहात, सीओ ब्रह्मपाल सिंह, एसडीएम बेहट और पीएसी भी मौके पर मौजूद रही।

Ad Block is Banned