बिल्ड अप इण्डिया

भारत ने 'भारतीयता' को सुरक्षित रखने के लिए स्वतंत्रता चाही थी। जगद्गुरु बने रहने को सांस्कृतिक दबाव के विरुद्ध शहादत दी थी। किन्तु आजादी के बाद भी भारत उस सांस्कृतिक दबाव से मुक्तनहीं हो पाया। हम अपने बुद्धिजीवियों को हृदय से आज तक भारतीय नहीं बना पाए। वर्तमान में जो संघर्ष देश में चल रहा है, उसकी यही कहानी है। जीवन में परिवर्तन शाश्वत नियम है।

By: Shri Gulab Kothari

Published: 23 May 2020, 11:35 AM IST

गुलाब कोठारी

भारत ने 'भारतीयता' को सुरक्षित रखने के लिए स्वतंत्रता चाही थी। जगद्गुरु बने रहने को सांस्कृतिक दबाव के विरुद्ध शहादत दी थी। किन्तु आजादी के बाद भी भारत उस सांस्कृतिक दबाव से मुक्तनहीं हो पाया। हम अपने बुद्धिजीवियों को हृदय से आज तक भारतीय नहीं बना पाए। वर्तमान में जो संघर्ष देश में चल रहा है, उसकी यही कहानी है। जीवन में परिवर्तन शाश्वत नियम है। उतार-चढ़ाव, महामारियां, प्राकृतिक आपदाएं आदि निजी जीवन में भी आती हैं और राष्ट्रीय जीवन में भी। तीन युग पहले गुजर चुके हैं, किन्तु देश के अंग-भंग का ऐसा दृश्य किसी युग में नहीं देखा। आज देश की मूल आबादी बेघर, बेरोजगार होकर त्राहि-त्राहि कर रही है। जिनके हाथों में देश की कमान सौंपते रहे, वे कभी भारतीय धरातल पर नहीं टिक पाए। न कानून ही भारतीय पृष्ठभूमि के बने, न संविधान, न शिक्षा व्यवस्था, न ही संविधान के तीनों पाये। एक -एक करके सभी 'जैण्टल मैन' होते गए, भारत को विस्मृत करते चले गए। यहां तक कि सरकार और जनता के मध्य का सेतु-मीडिया-भी चौथा पाया बनकर सरकार के साथ मिल बैठा। परिणाम क्या हुआ? देश दो श्रेणियों में बंट गया। शासक और शासित। आज दर्द का कोई सम्बन्ध नहीं रह गया है दोनों में। शासित ने शासक बनाया और अब वे बनाने वाले का ही शोषण करने लगे।

हमने आजादी के साथ ही भारतीयता के चोले को उतारना शुरू कर दिया। विज्ञान को ही विकास के आधार का करार मान लिया। अंग्रेजी की अंगुली पकड़ी और निकल पड़े आधुनिक होने। आज चौबे जी न छब्बे जी बन पाए, न ही दुब्बे जी ही रह सके। ऋषियों की सारस्वत ज्ञान साधना, वैश्विक दृष्टि, सरस्वती तक को हम लक्ष्मी के गिरवी रख बैठे, जो स्वयं जड़ हैं। वैभव, विकास जड़ है। इसके पीछे हम अपनी चेतना खो बैठे।

बस शरीर जी रहा है, आत्मा को तो हम उपलब्ध ही नहीं हैं। तब मेरे भीतर बैठा ईश्वर दूसरों के भीतर कहां दिखाई पड़ेगा। बस, भारत बिखर गया। इसका स्वरूप खो गया। हमारे ऋषियों ने प्राचीन ग्रन्थों में कोरोना जैसी आपदाओं से बच निकलने के लिए कई गुर दिए हैं। हमें उन पर विश्वास क्यों नहीं होता! विकास के सारे काल्पनिक एवं बौद्धिक सपने आज ढह गए। नकली धनवान धराशायी होते जा रहे हैं। सारी विकास की अवधारणाएं-वैश्वीकरण, विशेषज्ञ ज्ञान, उपभोक्तावाद, भौतिकवाद, विकासवाद तक ध्वस्त हो गए। क्योंकि इनमें कहीं मानवता का आधार नहीं था, आस्तिक भाव नहीं था, आध्यात्मिक चिंतन नहीं था। केवल मानव का जड़ शरीर (पशु) ही था और उसका सुख ही विकास का लक्ष्य था। आज मानवता लुट रही है। सिंह दृष्टि वाले भारत ने नकल में श्वान दृष्टि ग्रहण कर ली। इसी ने हमारी हस्ती मिटा दी।

युवाओं के सपने लुट रहे हैं, जो कि शिक्षा ने दिखाए हैं। काल्पनिक सिद्ध हुए। संकट की घड़ी में स्वयं शिक्षा के कठघरे में खड़े हैं। हमारी सामाजिक-आर्थिक सुरक्षा ढांचे की पोल खुल गई। हम गुलामों की तरह लाचार खड़े हैं। कोई मार्ग नहीं सूझ रहा। शिक्षा ने मार्ग निकालना सिखाया ही नहीं। समग्रता की शिक्षा, अध्यात्म-चेतना के जागरण की शिक्षा गांवों से भी उठ गई। संकट के काल में कोई न अपनी मदद कर पा रहा है। न दूसरों की।

आज पुन: भारतवासी गांव की ओर मुड़ा है। फिर से ताजा होगा। विकास के नाम जो कृषि एवं पशुपालन आज जहर उगल रहा है, अब फिर से अमृत वर्षा करेगा। नया भारत उभर रहा है। नया अर्थशास्त्र बनेगा। शहरों और अट्टालिकाओं से उसका मोह भंग हो गया। वैराग्य छा गया उसके मन में मायावी मुखौटों की चकाचौंध से। अब नए सिरे से गांव की माटी की गंध सूंघेगा। हमें इसका स्वागत करना चाहिए।

Shri Gulab Kothari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned