script उम्मीद की नई किरण है सीआर-टी सेल थेरेपी | CR-T cell therapy is the new ray of hope | Patrika News

उम्मीद की नई किरण है सीआर-टी सेल थेरेपी

Published: Feb 08, 2024 09:33:49 pm

Submitted by:

Gyan Chand Patni

अफसोस की बात यह है कि महंगा होने के कारण आबादी के बड़े हिस्से के लिए कैंसर का इलाज लगभग दुर्लभ है। स्वदेश में विकसित सीआर-टी सेल थेरेपी से इलाज का खर्च अमरीका में इलाज की तुलना में काफी सस्ता है। भारत में इसका खर्च लगभग 42 लाख रुपए है तो अमरीका में 4-5 करोड़ रुपए। हालांकि भारत जैसे देश के लिए 42 लाख रुपए भी ज्यादातर मरीजों के लिए महंगा ही माना जाएगा, लेकिन उम्मीद की जा सकती है कि आने वाले दिनों में इलाज और सस्ता होगा।

उम्मीद की नई किरण है सीआर-टी सेल थेरेपी
उम्मीद की नई किरण है सीआर-टी सेल थेरेपी

कैंसर के इलाज के लिए स्वदेशी तकनीक से विकसित सीआर-टी सेल थेरेपी भारत ही नहीं, दुनिया के तमाम ऐसे देशों के मरीजों के लिए उम्मीद की नई किरण बनकर आई है, जो आर्थिक असमर्थता के कारण उपचार नहीं करा पाते थे। इस थेरेपी से एक रिटायर्ड कर्नल डॉक्टर वीके गुप्ता का सफलतापूर्वक इलाज करने का दावा किया गया है। दशकों से कैंसर रोगियों का इलाज कीमोथेरेपी, रेडिएशन और सर्जरी पर निर्भर रहा है। लगातार हो रहे अनुसंधानों के कारण इन प्रारंभिक पद्धतियों से इलाज में भी लगातार तरक्की हो रही है और अब पहले की तुलना में कई प्रकार के कैंसर से पूरी तरह मुक्ति मिलने लगी है। हालांकि पुराना तरीका मरीजों के लिए काफी कष्टकारी माना जाता है और इसके दूरगामी साइड इफेक्ट होते हैं। लेकिन टीआर-सेल थेरेपी एक नई पद्धति है जो कैंसर की बीमारी की रोकथाम में नई आशा है। ल्यूकेमिया और लिम्फोमा जैसे कैंसर में यह विशेष रूप से कारगर है।
कैंसर के इलाज के संबंध में ज्यादातर शोध पश्चिमी देशों में हुए हैं। अब सीआर-टी सेल थेरेपी का विकास करने के बाद भारत भी उन विशेष देशों के क्लब में शामिल हो गया है। इस पद्धति का विकास टाटा मेमोरियल अस्पताल ने किया है। सीआर-टी सेल थेरेपी में रोगी की प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए जिम्मेदार टी कोशिकाओं को निकालकर उन्हें फिर से व्यवस्थित किया जाता है। इसके लिए जीन एडिटिंग के माध्यम से टी कोशिकाओं को कैंसर के खिलाफ तैयार करके फिर से रोगी के शरीर में डाला जाता है। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो रोगी की प्रतिरक्षा प्रणाली को इस तरह मजबूत किया जाता है कि यह कैंसर के जीवाणुओं का सफाया कर सके। हालांकि अभी यह नहीं कहा जा सकता कि मरीज हमेशा के लिए ठीक हो गया। लेकिन, माना जा रहा है कि इस इलाज के बाद बीमारी की पुनरावृत्ति की आशंका कम है। पिछले कुछ दशकों में कैंसर की बीमारी तेजी से बढ़ी है। भारत में यह प्रतिवर्ष करीब आठ लाख लोगों को अपना शिकार बना रही है।
अफसोस की बात यह है कि महंगा होने के कारण आबादी के बड़े हिस्से के लिए कैंसर का इलाज लगभग दुर्लभ है। स्वदेश में विकसित सीआर-टी सेल थेरेपी से इलाज का खर्च अमरीका में इलाज की तुलना में काफी सस्ता है। भारत में इसका खर्च लगभग 42 लाख रुपए है तो अमरीका में 4-5 करोड़ रुपए। हालांकि भारत जैसे देश के लिए 42 लाख रुपए भी ज्यादातर मरीजों के लिए महंगा ही माना जाएगा, लेकिन उम्मीद की जा सकती है कि आने वाले दिनों में इलाज और सस्ता होगा।

ट्रेंडिंग वीडियो